scorecardresearch
 

रेलवे ट्रैक की फिश प्लेट खोलने वाला शख्स गिरफ्तार, बड़ा रेल हादसा टला

तीन लड़कों की सतर्कता से गाजियाबाद के मुरादनगर में एक बड़ा रेल हादसा टल गया. उन लड़कों ने वहां एक अनजान शख्स को रेलवे लाइन पर उस वक्त धर दबोचा, जब वह रेलवे टैक की फिश प्लेट खोल रहा था. उसकी करतूत देखकर लोगों ने उसे जमकर पीटा. फिर रेल कर्मचारियों ने उसे स्टोर में बंद कर दिया.

पुलिस और केंद्रीय एजेंसियां संदिग्ध युवक से पूछताछ कर रही हैं पुलिस और केंद्रीय एजेंसियां संदिग्ध युवक से पूछताछ कर रही हैं

तीन लड़कों की सतर्कता से गाजियाबाद के मुरादनगर में एक बड़ा रेल हादसा टल गया. उन लड़कों ने वहां एक अनजान शख्स को रेलवे लाइन पर उस वक्त धर दबोचा, जब वह रेलवे टैक की फिश प्लेट खोल रहा था. उसकी करतूत देखकर लोगों ने उसे जमकर पीटा. फिर रेल कर्मचारियों ने उसे स्टोर में बंद कर दिया.

हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया कि उसकी मंशा क्या थी. लेकिन उसकी इस हरकत से हजारों लोगों की जान खतरे में पड़ जाती. इससे पहले गुस्साए लोगों ने उसकी जमकर पिटाई की. रेल कर्मचारियों ने उसकी जान बचाते हुए उसे जनता से बचाया और रेलवे स्टोर में बंद कर पुलिस को सूचना दी.

बाद में उस संदिग्ध को हिरासत में ले लिया गया. जीआरपी और आरपीएफ उस शख्स से पूछताछ कर रही है. साथ ही केंद्रीय एजेंसियों के अधिकारी भी मुरादनगर पहुंच कर उस व्यक्ति से पूछताछ कर रहे हैं. घटना के बाद रेलवे ट्रैक को ठीक कर ट्रेनों की आवाजाही सुचारू की गई है.

जानकारी के मुताबिक गाजियाबाद के मुरादनगर की दयानंद कॉलोनी निवासी तीन युवक शिवा (16), विजय (15) और सचिन (14) बीते शुक्रवार को रेलवे ट्रैक के पास गए थे. करीब सुबह सवा आठ बजे जब वह वापस आ रहे थे तो पोल संख्या 38-19 के पास एक युवक रेलवे ट्रैक पर बैठा दिखाई दिया.

उस युवक ने किशोरों से फोन करने के लिए मोबाइल मांगा. किशोरों ने मोबाइल नहीं होने की बात कही. इसी बीच एक युवक सचिन की नजर रेलवे ट्रैक पर पड़ी तो उसने देखा कि पटरियों को आपस में जोड़ने वाली फिश प्लेट और नट-बोल्ट अलग-अलग पड़े हुए थे. किशोरों ने जब इस बारे पूछा तो आरोपी भागने लगा.

किशोरों ने पीछा कर आरोपी को पकड़ लिया और शोर मचा दिया. मौके पर पहुंचे लोगो ने संदिग्ध शख्स की जमकर धुनाई की. और उसे रेलवे स्टेशन ले जाकर स्टेशन मास्टर को सौंप कर पूरी बात बताई. सूचना पर आरपीएफ, जीआरपी और स्थानीय पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंच गए.

आरोपी की पहचान 30 वर्षीय फुरकान निवासी बुलंदशहर के रूप में हुई है. आरोपी से अभी पूछताछ जारी है. घटना के समय आरोपी नशे में बताया जा रहा है. वहीं घटना के कुछ देर बाद ही इस ट्रैक से देहरादून एक्सप्रेस गुजरनी थी जिसे मुरादनगर स्टेशन पर 50 मिनट तक रोका गया.

संदिग्ध शख्स की यह हरकत लोगों की जान पर भारी पड़ सकती थी. देहरादून एक्सप्रेस में शुक्रवार को सफर कर रहे यात्रियों की जिंदगी और मौत में सिर्फ चार मिनट का फासला था. यदि रेलवे ट्रैक से फिश प्लेट निकालकर पटरी खोलने की सूचना मिलने में चार मिनट की देरी हो जाती तो देहरादून एक्सप्रेस खुली हुई पटरी पर चढ़ जाती, जिससे कोई भी बड़ा हादसा हो सकता था.

घटना को अंजाम देने वाला शख्स नशे की हालत में था. जिसे मेरठ रेलवे पुलिस को सौंपा गया है. जिससे पूछताछ की जा रही है. जांच के बाद ही घटना की वजह और आरोपी का मकसद साफ हो पाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें