scorecardresearch
 

BJP युवा नेता की हत्या में खुलासा, फेसबुक फ्रेंडशिप में हुआ था विवाद

राजधानी लखनऊ में सोमवार रात भारतीय जनता युवा मोर्चा के नेता की चाकू से गोद कर सरेआम हत्या कर दी गई थी.

प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडिया टुडे आर्काइव) प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडिया टुडे आर्काइव)

लखनऊ में भाजयुमो के पूर्व प्रदेश मंत्री प्रत्यूष मणि त्रिपाठी की हत्या के मामले में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. किसी महिला से फेसबुक फ्रेंडशिप को लेकर त्रिपाठी का विवाद हुआ था.

इस मामले में जांच के बाद पता चला है 25 नवंबर की रात त्रिपाठी को मोहल्ले के ही सलमान, शिबू, जीशान, रोहित और ध्रुव अपने साथ जबरदस्ती घसीट कर सड़क पर ले गए थे. वहां त्रिपाठी पर जानलेवा हमला किया गया जिसके बाद इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. इस मामले में लखनऊ के कैसरबाग थाने में रिपोर्ट भी दर्ज करवाई गई थी.

दूसरी तरफ, प्रत्यूष मणि के खिलाफ छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी. जानकारी के मुताबिक, प्रत्यूष मणि और दूसरे पक्ष की महिला के बीच फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट को लेकर विवाद भी हुआ था. हत्या के बाद प्रदर्शनकारियों ने लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर के बाहर हंगामा किया. इसे देखते हुए पुलिस ने दो आरोपियों अदनान और सलमान को गिरफ्तार किया. लापरवाही के आरोप में कैसरबाग के इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया है. पीड़ित परिवार को सरकार की तरफ से दस लाख रुपए की आर्थिक मदद दी गई है.

प्रदर्शनकारी लखनऊ के एसएसपी कलानिधि नैथानी के इस्तीफे की मांग कर रहे थे. कार्यकर्ताओं की मांग थी कि त्रिपाठी के परिवार को मुआवजे के तौर पर 50 लाख रुपए दिए जाएं, साथ ही उनके हत्यारों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए. प्रदर्शनकारियों का दावा था कि 25 नवंबर को बदमाशों ने त्रिपाठी पर हमला किया था लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया. साथ ही त्रिपाठी ने इसकी शिकायत एसएसपी नैथानी से भी की थी और सुरक्षा की मांग की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें