scorecardresearch
 

कासगंज हिंसा: Whatsapp पर 'नफरत' शेयर करने वाला ग्रुप एडमिन गिरफ्तार

व्हाट्सऐप पर नफरत फैलाने और हिंसा भड़काने के लिए उकसाने वाला वीडियो शेयर करने वाले ग्रुप एडमिन को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम राम सिंह है.

आरोपी ने व्हाट्सऐप पर जलते हुए धर्मस्थल की वीडियो पोस्ट की थी आरोपी ने व्हाट्सऐप पर जलते हुए धर्मस्थल की वीडियो पोस्ट की थी

उत्तर प्रदेश के कासगंज में किस तरह एक मामूली विवाद को सांप्रदायिक हिंसा में बदलने की साजिश की गई, उसका राज अब खुलता जा रहा है. इसी क्रम में पुलिस ने एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है, जो सोशल नेटवर्किंग के जरिए नफरत फैलाने का काम कर रहा था.

व्हाट्सऐप पर नफरत फैलाने और हिंसा भड़काने के लिए उकसाने वाला वीडियो शेयर करने वाले ग्रुप एडमिन को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम राम सिंह है. राम सिंह ने व्हाट्सऐप पर आगजनी का वीडियो पोस्ट कर कैप्शन में भड़काऊ बातें लिखी थीं.

कासगंज के SP ने सोशल नेटवर्किंग के जरिए हिंसा भड़काने वालों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. उन्होंने बताया कि वीडियो शेयर करने वाले इसी व्हाट्सऐप ग्रुप का एक अन्य सदस्य अजय गुप्ता फरार चल रहा है. गिरफ्तार किए गए राम सिंह को कल जेल भेज दिया जाएगा.

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी शख्स ने एक धर्मस्थल के आग से राख हुए हिस्से का वीडियो बनाकर पोस्ट किया है. फरार आरोपी ने भी व्हाट्सऐप ग्रुप में इस वीडियो को शेयर करने के अलावा भड़काने वाले कैप्शन के साथ कई अन्य तस्वीरें भी शेयर की हैं.

CM योगी से मिलेगा चंदन का परिवार

इस बीच कासगंज हिंसा में मारे गए चंदन गुप्ता का परिवार आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करेगा. चंदन के परिवार से सीएम योगी की यह मुलाकात दोपहर करीब 12.30 बजे मुख्यमंत्री कार्यालय एनेक्सी में होगी.

सीएम से मिलने चंदन गुप्ता की बहन, मां और परिवार के सदस्य जाएंगे. माना जा रहा है चंदन का परिवार दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और बचे हुए आरोपियों की जल्द धरपकड़ की मांग करेगा. इसके अलावा पीड़ित परिवार हिंसा पर एक जांच की मांग भी कर सकता है.

चंदन गुप्ता सामाजिक तौर पर काफी सक्रिय था. कई संस्थाओं से जुड़ा था और ब्लड डोनेशन के साथ गरीबों को कंबल बांटने जैसे सामाजिक काम करता था. जिसके चलते परिवार चंदन गुप्ता के लिए मुख्यमंत्री से कुछ मांगे भी रख सकता है.

अभी भी सुलग रहा है कासगंज

26 जनवरी को दो पक्षों में हिंसा भड़क गई थी. इस दौरान चंदन गुप्ता नाम के युवक की गोली लगने से मौत हो गई थी. इलाके में हालात अभी भी पूरी तरह कंट्रोल में नहीं है. हालांकि, चंदन के आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है. इसके बाद सोमवार शाम कासगंज में एक बार फिर एक धर्म स्थल को नुकसान पहुंचाने का प्रयास किया गया. जिसके बाद कासगंज के एसपी ने कड़ी कार्रवाई करते हुए इलाके के तीन चौकी प्रभारियों को लाइन हाजिर कर दिया.

यह था पूरा मामला

शुक्रवार को गणतंत्र दिवस पर VHP और ABVP के कार्यकर्ताओं ने तिरंगा यात्रा निकाली. तिरंगा यात्रा जब बिलमार गेट के पास अल्पसंख्यक समुदाय के मोहल्ले से गुजरने लगा तो तिरंगा यात्रा निकाल रहे युवकों ने भड़काऊ नारेबाजी की, जिससे दो गुटों में झड़प शुरू हो गई. झड़प इतनी बढ़ी की इसने हिंसा का रूप ले लिया.

दोनों पक्षों के बीच जमकर पत्थरबाजी हुई और गोलियां भी चलीं. फायरिंग में हिंदू समुदाय के एक युवक चंदन गुप्ता की मौत हो गई. युवक की मौत के बाद हिंसा ने उग्र रूप ले लिया. उग्र उपद्रवियों ने जमकर दुकानों में तोड़फोड़, लूटपाट और आगजनी की. रात होते-होते इलाके में भारी पुलिस और सुरक्षा बल तैनात करना पड़ा और कर्फ्यू लगा दिया गया.

रात भर माहौल शांत लेकिन तनावपूर्ण बना रहा. हालांकि अगले दिन यानि शनिवार को कर्फ्यू के बावजूद फिर से हिंसा भड़क उठी और उपद्रवियों ने दर्जनों बसों और वाहनों में आग लगा दी. इलाके के सभी आला अधिकारी मौके पर पहुंचे. PAC और RAF की कई कंपनियां तैनात कर दी गईं और कासगंज छावनी में तब्दील हो गया था. अब धीरे धीरे शहर में शांति लौट रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें