scorecardresearch
 

गुरमीत राम रहीम के समधी से कुछ नहीं उगलवा पाई पंचकुला पुलिस!

हरियाणा के पंचकुला हिंसा मामले की जांच कर रही एसआईटी की टीम ने गुरमीत राम रहीम के समधी और पूर्व कांग्रेस विधायक हरमिंदर सिंह जस्सी से साढ़े पांच घंटे तक पूछताछ की. लेकिन इसके बाद भी एसआईटी के अधिकारी जस्सी से कुछ नहीं उगलवा पाए.

एसआईटी ने जस्सी से करीब साढ़े पांच घंटे तक पूछताछ की एसआईटी ने जस्सी से करीब साढ़े पांच घंटे तक पूछताछ की

हरियाणा के पंचकुला हिंसा मामले की जांच कर रही एसआईटी की टीम ने गुरमीत राम रहीम के समधी और पूर्व कांग्रेस विधायक हरमिंदर सिंह जस्सी से साढ़े पांच घंटे तक पूछताछ की. लेकिन इसके बाद भी एसआईटी के अधिकारी जस्सी से कुछ नहीं उगलवा पाए.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक पूर्व कांग्रेस हरमिंदर सिंह जस्सी से करीब तीन दर्जन से ज्यादा सवाल पूछे गए जिनका जवाब उसने गोल-मोल दिया. पूछताछ के दौरान ज़्यादातर सवाल पंचकुला हिंसा को लेकर किए गए थे. जस्सी से जो सवाल पूछे गए उनमें से कुछ खास प्रश्न ये थे-

आप इन दंगों की प्लानिंग के बारें में क्या जानते हैं?

25 अगस्त को गुरमीत सिंह को जब दोषी करार दिया गया, तो आप कहा पर थे?

किन आरोपियों को आप पहले से जानते हो, किसके संपर्क में आप रहे हो?

क्या आप की सिक्योरटी के पंजाब पुलिस के मुलजिम बाबा के कारकेड में थी?

क्या आपने फरारी के समय हनीप्रीत की मदद की है?

क्या डेरे से सामान गायब करने व साक्ष्य मिटाने में आप ने कोई रोल प्ले किया है?

सूत्रों की माने तो जस्सी ने पुलिस को बताया कि वह 25 अगस्त को पंचकुला में थे ही नहीं. जबकि पंजाब पुलिस के मुताबिक 25 अगस्त को जस्सी के साथ पंजाब पुलिस के जवान तैनात थे. पुलिस अब यह मान कर चल रही है कि जस्सी गुरमीत राम रहीम के काफिले में शामिल तो था लेकिन वह कहीं रास्ते में इधर-उधर हो लिए थे.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक बुधवार को पंचकुला में की गई पूछताछ में हरमिंदर सिंह जस्सी ने जो भी जवाब दिए, उनकी सत्यता परखी जा रही है. अगर उनके बयान सत्यता से परे हुए तो उनको दोबारा पूछताछ के लिए समन भेजे जाएंगे.

पुलिस को शक है कि हरमिंदर सिंह जस्सी ने 25 अगस्त के दिन अपनी सुरक्षा में तैनात पुलिस के जवानों को गुरमीत राम रहीम के साथ भेजा था. हनीप्रीत की फरारी के शुरुआती दिनों में जस्सी के सुरक्षा गार्ड उसके साथ भी देखे गए थे. आरोप तो यह भी है कि जस्सी ने अपनी जेड प्लस सुरक्षा की आड़ में ही हनीप्रीत इंसा को डेरा से बाहर निकाला था.

दरअसल, पुलिस यह भी पता लगाना चाहती है कि क्या हनीप्रीत इंसा डेरा से नकदी और जेवरात लेकर बाहर निकली थी तो उसका साथ किसने दिया था. और आखिर उसने वो कीमती चीजें कहां पर छिपाई हैं. हनीप्रीत और अभी तक फरार चल रहे डॉक्टर आदित्य इंसा का मददगार कहीं हरमिंदर सिंह जस्सी ही तो नहीं थे.

उधर, हरमिंदर सिंह जस्सी ने पूछताछ के बाद पंचकुला के सेक्टर 20 थाना से बाहर आने पर मीडिया से कोई बात नहीं की. वह नो कमेंट कह कर चलते बने. अब सवाल उठ रहा है कि क्या हरमिंदर सिंह जस्सी कुछ छिपाना चाहते हैं. क्योंकि इससे पहले वह कई बार आरोपों को खारिज कर चुके हैं. लेकिन अब की बार उनके होंठ सिले हुए थे.

ये सवाल भी सिर उठा रहा है कि क्या हरमिंदर सिंह जस्सी पुलिस के निर्देश के मुताबिक मीडिया से बात करने से कतरा रहे हैं.

गौरतलब है कि गुरमीत राम रहीम के जेल चले जाने के बाद डेरा प्रबंधन में जस्सी का खासा दखल देखा गया है. वह अक्सर गुरमीत राम रहीम के बेटे जसमीत इंसा और अपनी बेटी के साथ डेरा परिसर में देखे गए हैं. सूत्र तो यहां तक कहते हैं कि जस्सी चाहते हैं कि डेरा की कमान जसमीत इंसा के हाथ में हो.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें