scorecardresearch
 

हनी ट्रैप और ब्लैकमेलिंग के जाल में फंसाकर लूटती थीं महिलाएं!

दिल्ली एनसीआर के फरीदाबाद में एक बार फिर हनी ट्रैप का सनसनीखेज मामला सामने आया है. यहां खुद को क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताने वाले कुछ युवकों ने महिलाओं के साथ एक युवक की ना केवल पिटाई की बल्कि उससे लाखों रुपये भी मांगे. युवक की शिकायत पर पुलिस ने तीन महिलाओं को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया, जबकि उनके बाकी के साथी फरार हो गए. पुलिस ने केस दर्ज करके बाकी आरोपियों की तलाश कर रही है.

हनी ट्रैप का सनसनीखेज मामला हनी ट्रैप का सनसनीखेज मामला

दिल्ली एनसीआर के फरीदाबाद में एक बार फिर हनी ट्रैप का सनसनीखेज मामला सामने आया है. यहां खुद को क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताने वाले कुछ युवकों ने महिलाओं के साथ एक युवक की ना केवल पिटाई की बल्कि उससे लाखों रुपये भी मांगे. युवक की शिकायत पर पुलिस ने तीन महिलाओं को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया, जबकि उनके बाकी के साथी फरार हो गए. पुलिस ने केस दर्ज करके बाकी आरोपियों की तलाश कर रही है.

जानकारी के मुताबिक, अमित भड़ाना नामक युवक ने पुलिस को शिकायत दी थी कि कुछ महिलाओं और युवकों ने उसे जबरन हनी ट्रैप में फंसा लिया है. उससे लाखों रुपये की डिमांड कर रहे हैं. पाली गांव निवासी अमित भड़ाना पेशे से फाइनेंसर है. पुलिस अधिकारियों ने इस मामले को तुरंत संज्ञान लेते हुए संजय कॉलोनी चौकी की एक टीम गठित कर मामले का पर्दाफाश करने का आदेश दिया. इसके बाद पुलिस टीम तुरंत हरकत में आ गई.

पुलिस ने 15 हजार के नोट पर हस्ताक्षर कर के अमित बढ़ाना को दिए और इसे ब्लैकमेलर महिलाओं को देने के लिए कहा. इसके बाद पुलिस ने महिलाओं को पकड़वाने के लिए जाल बिछाया. अमित रुपये लेकर महिलाओं के पास पहुंचा और जैसे ही देने ही वाला था कि पुलिस टीम ने उन्हें रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया. इस मामले में अभी भी कई ब्लैकमेलर फरार हैं. पुलिस उनके खिलाफ केस दर्ज करके तलाश में छापेमारी कर रही है.

बताया जा रहा है कि तीन महिलाओं और उनके तीन दोस्तों ने मिलकर ब्लैकमेलिंग का गैंग बना रखा था. पहले महिलाओं पुरुषों को अपने जाल में फंसाती थी. उनसे फोन और व्हाट्सऐप के जरिए दोस्ती करती थीं. जब शिकार जाल में फंस जाता था तो ये अपने शिकार को किसी होटल या घर में मिलने के लिए बुलाती थीं. जब कोई शख्स इनके घर में पहुंच जाता तो महिला के पुरुष साथी पुलिसकर्मी बनकर फर्जी छापा मारते और पैसे वसूलते थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें