scorecardresearch
 

फिर दिल्ली में हिट एंड रन का शिकार हुआ बुजुर्ग

दिल्ली में हिट एंड रन केस की दर्दनाक तस्वीर अभी लोगों के दिमाग से धुंधली भी नहीं पड़ी थी कि राजधानी में एक बार फिर इंसानियत शर्मसार हो गई. फिर एक बार तेज रफ्तार के कहर ने एक बुजुर्ग की जिंदगी छीन ली. पुलिस ने आरोपी की पहचान कर उसे गिरफ्तार कर लिया है.

पुलिस ने आरोपी कैब चालक को गिरफ्तार कर लिया है पुलिस ने आरोपी कैब चालक को गिरफ्तार कर लिया है

दिल्ली में हिट एंड रन केस की दर्दनाक तस्वीर अभी लोगों के दिमाग से धुंधली भी नहीं पड़ी थी कि राजधानी में एक बार फिर इंसानियत शर्मसार हो गई. फिर एक बार तेज रफ्तार के कहर ने एक बुजुर्ग की जिंदगी छीन ली. पुलिस ने आरोपी की पहचान कर उसे गिरफ्तार कर लिया है.

दरअसल यह घटना बीती 9 अगस्त की है. दिल्ली में गोल मार्केट के पास 9 अगस्त की रात अमृतलाल नाम का शख्स अपनी आइसक्रीम की रेहड़ी बंद करके घर जा रहा था. तभी एक तेज रफ्तार कार ने 60 साल के अमृतलाल को अपनी चपेट में ले लिया. टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि अमृतलाल कार के साथ 10 मीटर तक घसीटता चला गया.

घायल को फेंककर फरार हो गया आरोपी
जब आसपास के लोगों की इस घटना पर नजर पड़ी तब गाड़ी वाले ने गाड़ी रोकी और घायल अमृतलाल को अस्पताल ले जाने के लिए गाड़ी में बैठाया. इंसानियत तब शर्मसार हो गई, जब गाड़ी चालक घायल अमृतलाल को उद्यान मार्ग के पास एक सुनसान गली में फेंककर फरार हो गया. घायल अमृतलाल पूरी रात वहां पड़ा तड़पता रहा. सुबह जब लोगों की नजर उस पर पड़ी तब तक अमृतलाल की सांसें उखड़ चुकी थी.

परिवार में अकेला कमाने वाला था अमृतलाल
अमृतलाल अपने घर में अकेले कमाने वाला आदमी था. उसका पूरा परिवार उनके जाने के बाद सदमे में है. पीड़ित परिवार इंसाफ की गुहार लगा रहा है. हालांकि पुलिस ने आरोपी कैब चालक को गिरफ्तार कर लिया है. मगर सवाल यही उठता है कि जब जिंदगी सांसों की दुहाई दे रही हो, तो ऐसे वक्त में आखिर कैसे एक इंसान यूं इंसानियत से मुंह फेर सकता है. अगर वक्त रहते इंसानियत जिंदा हो जाती तो मतिबुल और अमृतलाल आज मौत के मुंह में न समाए होते.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें