scorecardresearch
 

गुरुग्राम: गैंगस्टर का खुंखार गुर्गा पुलिस मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार

खूंखार अपराधी अमित डागर के तार हरियाणा के नामी और एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर सुरेंदर ग्योंग, दिल्ली के एनकाउंटर में मारे गए गैंगस्टर संजीत बिद्रो और राजेश भारती गैंग से भी जुड़े थे. 

पुलिस गिरफ्त में खूंखार अपराधी अमित डागर पुलिस गिरफ्त में खूंखार अपराधी अमित डागर

गुरुग्राम पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान लंबे समय से फरार चल रहे गैंगस्टर कौशल के खासमखास गुर्गे अमित डागर को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है.

दरअसल गुरुग्राम पुलिस को सूचना मिली थी अमित डागर अपने साथी के साथ किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में साइबर सिटी में दाखिल होने वाला है और इस सूचना के आधार पर गुरुग्राम पुलिस ने डागर को ट्रैक करना शुरू किया. पुलिस को यह बड़ी कामयाबी तब मिली जब द्वारका एक्सप्रेसवे के पास संदिग्ध i20 गाड़ी आती दिखी. गुरुग्राम पुलिस ने जब इस गाड़ी को रुकने का इशारा किया, तब गाड़ी में बैठे बदमाशों ने गुरुग्राम पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दिया. दोनों तरफ से दर्जन राउंड फायरिंग के बाद एक बदमाश को पैर में गोली लगी. जिसे की घायल अवस्था में गुरुग्राम के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया.

वहीं लंबे समय से फरार चल रहे पलवल के रहने वाले अमित डागर को गुरुग्राम पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. फिलहाल गुरुग्राम पुलिस अमित डागर को 4 दिन की रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है.  गुरुग्राम के एसीपी क्राइम शमशेर सिंह के मुताबिक गिरफ्तार किया गया अमित डागर, कौशल गैंग का मुख्य सदस्य है और गुरुग्राम पुलिस के मोस्ट वांटेड अपराधियों की लिस्ट मे सबसे ऊपर था.

अमित डागर लगभग 15 सालों से अपराध की दुनिया में सक्रिय था. गैंगस्टर कौशल के साथ मिलकर इसने हत्या जैसी कई संगीन वारदातों को अंजाम दिया था. बता दें कि साल 2006 मे नाहरपुर रूपा निवासी सुदेश उर्फ छैलू की हत्या की थी. वहीं कुछ साल पहले डागर अपने गैंग के साथ हरियाणा के कैथल के एक और मोस्ट वांटेड सुरेंदर ग्योंग से मिल गया था और उसके साथ मिलकर इसने काई अपराधिक वारदातों को अंजाम दिया.

पैरोल पर आने बाद इसने लगभग 8 हत्याओं में शामिल होने की वारदातें कुबूली हैं. जिसमें 2016 में गैंगस्टर महेश उर्फ अटैक की हत्या, फरुखनगर के शराब व्यवसाई सतबीर की हत्या, रेवाड़ी के बवाल में गिरदावर की हत्या और तातारपुर के पूर्व सरपंच संजय की हत्या को अंजाम दे गरुग्राम पुलिस के लिए चुनौती बन गया था.

पुलिस की माने तो फरारी के दौरान डागर गुट के लोगों ने गाड़ियों की लूट की कई वारदात समेत बिजनेसमैन/प्रॉपर्टी डीलरों को फोन करके रंगदारी मांगने का भी काम किया. फिरौती न देने पर यह कई व्यक्तियों पर जान से मारने की नीयत से फायरिंग करने के मामले मे भी वांछित चल रहा था. गुरुग्राम पुलिस ने गिरफ्तार बदमाश के कब्जे से i20 कार और एक पिस्तौल बरमाद किया है.

वही गैंगस्टर के गुर्गे की गिरफ्तारी के बाद गुरुग्राम पुलिस गैंगस्टर कौशल को गिरफ्तार करने के प्रयास भी तेज कर दिए हैं. आपको बता दे कि गुरुग्राम पुलिस ने डागर की गिरफ्तारी पर जहां 1 लाख का इनाम घोषित किया था तो वही कैथल पुलिस ने भी हत्या के मामले में अमित डागर पर 5 हज़ार का इनाम घोषित किया हुआ था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें