scorecardresearch
 

सीआरपीएफ का फर्जी डिप्टी कमांडेंट कर रहा था शराब की तस्करी

बिहार में शराबबंदी के बाद शराब की तस्करी के लिए तरह-तरह के नए हथकंडे अपनाए जा रहे हैं. बिहार पुलिस के साथ-साथ उत्पाद विभाग भी सूबे में शराबबंदी को सफल बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहता. इसी बीच गया पुलिस ने सीआरपीएफ के एक फर्जी डिप्टी कमाडेंट को भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब के साथ गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने शक होने पर फर्जी डिप्टी कमांडेंट को धरदबोचा पुलिस ने शक होने पर फर्जी डिप्टी कमांडेंट को धरदबोचा

बिहार में शराबबंदी के बाद शराब की तस्करी के लिए तरह-तरह के नए हथकंडे अपनाए जा रहे हैं. बिहार पुलिस के साथ-साथ उत्पाद विभाग भी सूबे में शराबबंदी को सफल बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहता. इसी बीच गया पुलिस ने सीआरपीएफ के एक फर्जी डिप्टी कमाडेंट को भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब के साथ गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने गया के सिक्स लेन पुल पर सीआरपीएफ के फर्जी डिप्टी कमांडेंट को गिरफ्तार कर लिया. अपने पद के हिसाब से सीआरपीएफ का फर्जी डिप्टी कमांडेंट नीली बत्ती लगी स्विफ्ट डिजायर कार में सवार था. गाड़ी में नीली बत्ती तो लगी थी लेकिन कार में कोई भी अंगरक्षक नहीं था.

इसी बात से पुलिस को कुछ शक हुआ. और गाड़ी को रोककर पूछताछ की गई. जब पुलिस ने कार सवार से सवाल पूछने शुरू किए तो वह भागने लगा. तब पुलिस का शक पुख्ता हो गया. पुलिस ने दौड़कर भागने वाले व्यक्ति को धरदबोचा. जब पुलिस ने कार की तलाशी ली तो कार से भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब की बोतलें बरामद हुई.

पुलिस को पूरा मामला समझते देर नहीं लगी. गिरफ्तार किए गए आरोपी का नाम शशि कुमार है. वह पटना के गर्दनीबाग इलाके का रहने वाला है. पुलिस ने उसकी कार को जब्त कर लिया.

मौके पर मौजूद एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पहले आरोपी खुद को सीआरपीएफ का डिप्टी कमांडेंट बताकर रोब झाड़ने की कोशिश कर रहा था लेकिन जब उससे पुलिस ने परिचय पत्र और अन्य जानकारी मांगी तो वह भागने लगा.

पुलिस के मुताबिक आरोपी की कार से 96 बॉटल रॉयल स्टैग और 24 बॉटल सिग्नेचर ब्रांड शराब बरामद की गई है. पूछताछ में आरोपी ने बताया कि यह शराब झारखण्ड के हजारीबाग से पटना ले जाई जा रही थी. पुलिस ने संबंधित धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें