scorecardresearch
 

ग्रेटर नोएडा: असली फोन दिखाकर थमा देते थे डमी, दो ठग गिरफ्तार

ग्रेटर नोएडा के थाना बिसरख पुलिस ने दो शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है. ये ठग पहले सस्ते दामों पर मोबाइल बेचने के बहाने असली फोन दिखाते थे और रेट तय होने के बाद मोबाइल डमी थमा देते थे. इसके बाद फरार हो जाते थे.

जब्त मोबाइल को दिखाते पुलिस अधिकारी जब्त मोबाइल को दिखाते पुलिस अधिकारी

  • नोएडा में पुलिस ने शातिर दो ठगों को गिरफ्तार किया
  • गिरफ्तार दोनों ठग लोगों को डमी फोन बेच देते थे

ग्रेटर नोएडा के थाना बिसरख पुलिस ने दो शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है. ये ठग पहले सस्ते दामों पर मोबाइल बेचने के बहाने असली फोन दिखाते थे और रेट तय होने के बाद मोबाइल डमी थमा देते थे. इसके बाद फरार हो जाते थे.

पुलिस ने इन ठगों के पास से एक फर्जी नंबर की स्कूटी, एक मोबाइल फोन, 7 कवर में मोबाइल के आकार का शीशे का टुकड़ा, चाकू और नकदी बरामद की है. अबतक इन्होंने दर्जनों लोगों को अपना शिकार बनाया और लोगों से ठगी की है.

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार कासिम और वसीम शातिर किस्म के ठग हैं. दोनों आरोपी चेन्नई और बेंगलुरू समेत नोएडा-एनसीआर में मोबाइल फोन ठगी की 50 से अधिक वारदातों को अंजाम दे चुके हैं. ये चेन्नई और बेंगलुरू में भी ठगी के मामले में जेल जा चुके हैं.

कोतवाली बिसरख पुलिस ने शुक्रवार को मोबाइल फोन ठगी के मामले में मिली शिकायत पर दोनों को शाहबेरी की ओर जाने वाले तिराहे के पास स्थित पुश्ते से गिरफ्तार किया है.

सूरजपुर पुलिस मुख्यालय में ग्रेटर नोएडा के एसपी ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तों ने बीते 7 सितंबर को पंचशील हाइनेस सोसायटी के पास हैबतपुर निवासी विवेक को एक मोबाइल आकार के कवर में एक कांच का टुकड़ा रखकर 7 हजार रुपये में बेच दिया था.

इसके लिए विवेक ने 6600 रुपये नकद और 400 रुपये पेटीएम से भुगतान किया था. बाद में ठगी की जानकारी होने पर विवेक ने बिसरख थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी. उस मामले की जांच के दौरान पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें