scorecardresearch
 

बिहार में बीजेपी नेता की सरेआम गोली मारकर हत्या

बिहार के दानापुर में पारिवारिक विवाद के चलते एक शख्स ने अपने रिश्तेदार की सरेआम गोली मार कर हत्या दी. मृतक बीजेपी का स्थानीय नेता था. वारदात को अंजाम देकर आरोपी फरार हो गए.

पुलिस मामले की छानबीन कर रही है पुलिस मामले की छानबीन कर रही है

बिहार के दानापुर में पारिवारिक विवाद के चलते एक शख्स ने अपने रिश्तेदार की सरेआम गोली मार कर हत्या दी. मृतक बीजेपी का स्थानीय नेता था. वारदात को अंजाम देकर आरोपी फरार हो गए.

पटना से सटे दानापुर में बुधवार की देर शाम बीजेपी नेता अशोक जायसवाल अपने घर के सामने संजय कुमार की दुकान पर बैठे थे. तभी हथियारबंद बदमाश वहां पहुंचे और जायसवाल को निशाना बनाकर गोलियों से छलनी कर दिया. इस हमले में अशोक के सीने और पेट में गोलियां लगी. जिसकी वजह से मौके पर ही उनकी मौत हो गई.

वारदात को अंजाम देकर आरोपी बदमाश मौके से फरार हो गए. गोली चलने की आवाज़ सुनकर इलाके में अफरा तफरी फैल गई. बीजेपी नेता की हत्या की खबर जंगल में आग की तरह फैल गई. आनन फानन में लोग अशोक को अस्पताल ले गए. मगर डॉक्टरों ने भी उन्हें मृत घोषित कर दिया. सगुना मोड़ के पास उनके परिवार वालों के अलावा शुभ चिंतकों की भीड़ इकठ्ठा हो गई.

घटना की सूचना पाकर दानापुर पुलिस और पटना के एसएसपी मनु महाराज भी मौके पर पहुंच गए. केन्द्रीय मंत्री रामकृपाल यादव भी अस्पताल में जा पहुंचे और उन्होंने पूरी घटना की जानकारी ली.

जानकारी के अनुसार वारदात को अंजाम देने से पहले अपराधियों ने बीजेपी नेता अशोक जायसवाल की रेकी की थी. हमले के वक्त सभी अपराधियों के हाथ में हथियार थे और सभी पेशेवर अपराधी बताए जा रहे हैं.

इस संबंध में दानापुर थाने में हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है. पुलिस ने मृतक अशोक जायसवाल की बहु रिचा के बयान भी दर्ज किए हैं. रिचा के अनुसार उनके पिता श्रृषिदेव सिंह और चाचा दिनेश सिंह ने अन्य अपराधियों की मदद से उनके ससुर अशोक जायवाल की हत्या की है.

रिचा के अनुसार घटना से पहले उसने इन सबों को हथियारों के साथ आते हुए देखा था. प्राथमिकी में इस बात का भी उल्लेख है कि पिछले कई दिनों से उनके पिता और चाचा अन्य अपराधी प्रवृति के लोगों के साथ मिलकर उनके ससुर को धमकी देते आ रहे थे.

इस वारदात के पीछे मृतक के बेटे गुंजन का प्रेम विवाह मूल वजह बताया जा रहा है. मृतक के बेटे गुंजन ने प्रेम विवाह किया था. लड़की पक्ष वाले इस शादी का विरोध कर रहे थे. इस बाबत लड़की को भगाने का मामला भी दर्ज हुआ था, लेकिन लड़की के ऐसी किसी भी घटना से इंकार कर देने पर मामला रफा-दफा हो गया था.

लड़की पक्ष के लोग इसी बात से नाराज थे और अशोक जायसवाल को धमकी दे रहे थे. इस बारे में अशोक ने दानापुर थाने में लिखित शिकायत भी की थी. लेकिन पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया. इसी का नतीजा है कि अशोक जायसवाल की हत्या कर दी गई. पटना के एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि घटना की जांच के लिए पुलिस की विशेष टीम गठित की गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें