scorecardresearch
 

डॉक्टर दीप्ति हत्याकांडः आगरा में सीबीआई की रेड, कब्जे में लिए दस्तावेज

सीबीआई प्रवक्ता के मुताबिक छापेमारी के दौरान लैपटॉप, मोबाइल फोन और बैंक खाते से जुड़े दस्तावेज के साथ ही अचल संपत्ति से संबंधित कागजात भी कब्जे में लिए गए हैं.

सीबीआई ने की दो जगह रेड सीबीआई ने की दो जगह रेड
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आगरा में दो जगह हुई सीबीआई रेड
  • सीबीआई ने कब्जे में लिया मोबाइल

आगरा के बहुचर्चित डॉक्टर दीप्ति हत्याकांड की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) कर रही है. सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मामला दर्ज किया है. सीबीआई की टीम ने आगरा में दो जगह छापेमारी कर कई दस्तावेज कब्जे में लिए हैं. सीबीआई के प्रवक्ता आरसी जोशी ने बताया है कि छापेमारी डॉक्टर दीप्ति के पति डॉक्टर सुमित और उनके परिवार के सदस्यों से जुड़ी जगह की गई.

सीबीआई प्रवक्ता के मुताबिक छापेमारी के दौरान लैपटॉप, मोबाइल फोन और बैंक खाते से जुड़े दस्तावेज के साथ ही अचल संपत्ति से संबंधित कागजात भी कब्जे में लिए गए हैं. गौरतलब है कि डॉक्टर दीप्ति की मौत के बाद उनके परिजनों ने दहेज हत्या का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था. दीप्ति के परिजनों की ओर से दहेज के लिए प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए दीप्ति के पति डॉक्टर सुमित, श्वसुर डॉक्टर एससी अग्रवाल, सासु अनिता, देवर अमित और ननद तुलिका के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया था.

सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर सीबीआई ने 22 जनवरी को डॉक्टर दीप्ति की मौत के मामले में एफआईआर दर्ज किया था. सीबीआई की एफआईआर में डॉक्टर दीप्ति के डॉक्टर पति सुमित समेत पांच लोगों के नाम हैं. डॉक्टर दीप्ति के पिता ने आरोप लगाया था कि उनकी बेटी की उसके पति और उसके घरवालों ने मिलकर हत्या कर दी. डॉक्टर दीप्ति के पिता ने दहेज के लिए बेटी को लगातार परेशान किए जाने का आरोप भी लगाया है.

डॉक्टर दीप्ति के पिता के मुताबिक उन्होंने कई बार दहेज की डिमांड पूरी करने की कोशिश की, लेकिन इससे बेटी के ससुरवाले संतुष्ट नहीं हुए और उसे प्रताड़ित करते रहे. आखिरकार 6 अगस्त को उनकी बेटी की मौत हो गई. बता दें कि डॉक्टर दीप्ति के पति डॉक्टर सुमित को स्थानीय पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है. डॉक्टर सुमित न्यायिक हिरासत में हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें