scorecardresearch
 

गंगा किनारे यूपी पुलिस का सर्च ऑपरेशन, अब तक मिले 39 शव, DGP ने जारी की लिस्ट

कोरोना संकट के बीच गंगा नदी में मिले शवों को लेकर यूपी डीजीपी मुख्यालय ने सूची जारी की है. अब तक गंगा किनारे से पुलिस को सिर्फ 39 शव मिले हैं. वाराणसी में 7, गाजीपुर में 15 से 16, चंदौली में 8 और बलिया में 8 शव बरामद किए जाने की बात कही गई है.

X
गंगा किनारे शवों को प्रवाहित करने से बाच नहीं आ रहे लोग (सांकेतिक तस्वीर-PTI)
गंगा किनारे शवों को प्रवाहित करने से बाच नहीं आ रहे लोग (सांकेतिक तस्वीर-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नदी में शवों के मिलने का सिलसिला जारी
  • यूपी में गंगा में अब तक 39 शव बरामद

कोरोना संकट के बीच गंगा नदी में मिले शवों को लेकर यूपी डीजीपी मुख्यालय ने सूची जारी की है. अब तक गंगा किनारे से पुलिस को सिर्फ 39 शव मिले हैं. वाराणसी में 7, गाजीपुर में 15 से 16, चंदौली में 8 और बलिया में 8 शव बरामद किए जाने की बात कही गई है.

नदी में शव प्रवाहित करने से रोकने के लिए उन्नाव, बलिया, गाजीपुर, वाराणसी, कानपुर, फतेहपुर में पेट्रोलिंग की विशेष टीमें लगाई गई हैं. वहीं, गाजीपुर के 18 श्मशान घाट पर पेट्रोलिंग के लिए पीएसी व स्थानीय पुलिस को लगाया गया है. सैदपुर से लेकर गहमर तक 34 पुलिस टीमों को तैनात कर गंगा में पेट्रोलिंग कराई जा रही है.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार कोरोना संकट के बीच शवों को गंगा और अन्य नदियों में फेंकने के मामले पर संज्ञान लिया है, साथ ही राज्यों को महत्वपूर्ण निर्देश दिए हैं. केंद्र सरकार ने यूपी और बिहार सरकार को निर्देश दिया है कि शवों को नदियों में प्रवाहित करने पर तत्काल रोक लगाई जाए. 

शवों को नदियों में फेंकने पर लगाई जाए रोक, यूपी और बिहार को केंद्र का निर्देश 

केंद्र सरकार ने यह भी कहा है कि शवों का सम्मानपूर्वक अंतिम संस्कार किया जाए. केंद्र के आदेश के बाद स्थानीय प्रशासन अलर्ट पर है और नदियों में शवों के जल प्रवाह पर पुलिस और प्रशासन के लोग पैनी नजर रखा रहे हैं.

केंद्र सरकार ने की थी समीक्षा बैठक

केंद्र ने 15 और 16 मई को समीक्षा बैठक बुलाई थी. केंद्र ने अधजले शवों और शवों के जल प्रवाह पर चिंता जताते हुए इसे अनुचित और चिंताजनक कहा था. इस घटना पर जल शक्ति मंत्रालय संज्ञान ले चुका है. मंत्रालय की ओर से जारी निर्देश में स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि नमामि गंगे मिशन राज्यों को गंगा में शवों को प्रवाहित करने पर रोक लगाने और उनके सुरक्षित निस्तारण और सम्मानजनक अंतिम संस्कार पर बल देने का निर्देश देता है. 

जारी है नदी के किनारे शवों के मिलने का सिलसिला

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश और बिहार में बड़ी संख्या में नदियों में शव तैरते देखे गए थे. बिहार की ओर से दावा किया जा रहा था कि शव यूपी से आ रहे हैं, वहीं यूपी का दावा था कि शव बिहार से आ रहे हैं. बिहार के बक्सर में गंगा नदी में 50 से ज्यादा शव देखे जाने के बाद राज्य में हड़कंप मच गया था. दुर्भाग्य से ये सिलसिला अब तक जारी है.

बक्सर: गंगा नदी में मिले शवों पर UP-बिहार के बीच बातचीत, बिहार प्रशासन का आरोप- यूपी से आ रही हैं लाशें

शवों को गंगा किनारे घाटों पर बड़ी संख्या में दफनाया गया है. कानपुर, उन्नाव, कन्नौज और प्रयागराज में नदियों के तटों पर ही शवों को दफना दिया गया है, जिसकी वजह से स्थानीय लोग परेशान हैं. शवों की बदबू बस्तियों तक आ रही है, जिसकी वजह से लोग डरे हुए हैं. 

यह भी पढ़ें: 
ग्राउंड रिपोर्टः 'सैकड़ों-हजारों शव रेत में धंसे हैं, इनकी बदबू गांवों में फैल रही है', गंगा किनारे बसे लोगों की जुबानी

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें