scorecardresearch
 

इंदौर: बैंक गारंटी के नाम पर 150 करोड़ का घोटाला! EOW का पंजाब एंड सिंध बैंक की ब्रांच पर छापा

इंदौर के राजबाड़ा में स्थित पंजाब एंड सिंध बैंक की शाखा पर इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EOW) ने छापा मारा था. मामला 150 करोड़ के घोटाले से जुड़ा बताया गया है.

पंजाब एंड सिंध बैंक की ब्रांच के घोटाले से तार जुड़े हैं पंजाब एंड सिंध बैंक की ब्रांच के घोटाले से तार जुड़े हैं
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पंजाब एंड सिंध बैंक की शाखा पर EOW का छापा
  • मामला 150 करोड़ के घोटाले से जुड़ा बताया गया है

मध्य प्रदेश के इंदौर में स्थित पंजाब एंड सिंध बैंक पर बुधवार शाम को जब इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EOW) का छापा पड़ा तो सब हैरान रह गए. अब सामने आया है कि मामला शराब माफियाओं और ठेकेदारों से जुड़ा है, जिसमें बैंक गारंटी के नाम पर करोड़ों रुपये का फर्जीवाड़ा हुआ है. इसमें बैंक अधिकारियों पर ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने का आरोप है.

EOW को अधूरे दस्तावेजों पर बैंक गारंटी की जानकारी मिली थी, इसमें पंजाब एंड सिंध बैंक के अधिकारियों की मिलीभगत का शक है. इकोनॉमिक ऑफेंस विंग को शक है कि 150 करोड़ रुपये का बैंक घोटाला हुआ है. इसके लिए ही बुधवार को पंजाब एंड सिंध बैंक के राजबाड़ा स्थित ऑफिस पर छापा मारा गया था. 

बैंक को देनी होती है गारंटी

शराब ठेकों के लिए हर साल फरवरी में बोली लगती है. इसके लिए बोली से पहले हर ठेकेदार को 12 फीसदी की बैंक गारंटी देनी होती है और बची हुई राशि किस्तों के जमा करनी होती है. लेकिन शराब ठेकेदारों ने अधूरे दस्तावेजों के आधार पर गारंटी लेकर ठेके ले लिए जिसके बाद कई सवाल उठे और शिकायत ईओडब्ल्यू तक जा पहुंची. 

शराब सिंडीकेट से जुड़े अधिकतर ठेकेदारों के अकाउंट पंजाब एंड सिंध बैंक की राजबाड़ा ब्रांच में हैं. शिकायत ये है कि बैंक द्वारा कई मामलों में बगैर प्रॉपर्टी की जांच किए क्षमता से ज्यादा बैंक गारंटी दे दी गई.

EOW एसपी धनंजय शाह ने बताया कि अगर इंदौर स्थित शाखा से पूरी जानकारी नहीं मिली तो विंग बैंक के दिल्ली स्थित मुख्य कार्यालय जाकर जांच आगे बढ़ाएगी. इसमें पता लगाया जाएगा कि कौन सी अनियमितता हुई हैं. फिलहाल इसमें लिप्त बैंक अधिकारियों को बेनकाब करने की कोशिश जारी है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें