scorecardresearch
 

ड्रग्स केस: मुंबई NCB के चीफ समीर वानखेड़े की सुरक्षा बढ़ी, जासूसी का लगाया था आरोप

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. वानखेड़े की ओर से हाल ही में आरोप लगाया गया था कि दो पुलिसवाले उनके आने-जाने को लेकर निगरानी कर रहे थे.

मुंबई एनसीबी चीफ समीर वानखेड़े (PTI) मुंबई एनसीबी चीफ समीर वानखेड़े (PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • समीर वानखेड़े की सुरक्षा बढ़ाई गई
  • सूत्रों के अनुसार, वानखेड़े ने जासूसी का लगाया था आरोप

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. वानखेड़े की ओर से हाल ही में आरोप लगाया गया था कि दो पुलिसवाले उनके आने-जाने को लेकर निगरानी कर रहे थे. मुंबई एनसीबी चीफ वानखेड़े की नई सुरक्षा व्यवस्था के तहत, पुलिस और एनसीबी के कई जवानों को उनके सुरक्षा बेड़े में शामिल किया गया है. सुरक्षा कारणों से उनके आधिकारिक वाहन को भी बदल दिया गया है. 

सूत्रों के मुताबिक, समीर वानखेड़े ने सोमवार को शिकायत दर्ज कराई थी कि जब वह कब्रिस्तान गए, जहां उनकी मां को दफनाया गया था, तो मुंबई के दो पुलिसकर्मी उनका पीछा कर रहे थे. दो पुलिस अधिकारी कथित तौर पर ओशिवारा पुलिस स्टेशन के हैं और वे कथित तौर पर समीर वानखेड़े की आवाजाही पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी फुटेज लेने के लिए कब्रिस्तान गए थे.

समीर वानखेड़े वर्तमान में बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से जुड़े हाई-प्रोफाइल मुंबई क्रूज ड्रग मामले की जांच की निगरानी कर रहे हैं. वह अतीत में कई हाई-प्रोफाइल मामलों का भी हिस्सा रहा है, जिसमें सुशांत सिंह राजपूत ड्रग केस और हाई-प्रोफाइल व्यक्तियों से जुड़े कई अन्य मामले शामिल हैं.

2008 बैच के आईआरएस अधिकारी हैं समीर

महाराष्ट्र के रहने वाले समीर वानखेड़े 2008 बैच के आईआरएस अधिकारी हैं. भारतीय राजस्व सेवा ज्वाइन करने के बाद उनकी पहली पोस्टिंग मुंबई के छत्रपति शिवाजी  इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर डिप्टी कस्टम कमिश्नर के तौर पर हुई थी. उनकी काबलियत की वजह से ही उन्हें बाद में आंध्र प्रदेश और फिर दिल्ली भी भेजा गया. उन्हें नशे और ड्रग्स से जुड़े मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है. समीर वानखेड़े के नेतृत्व में ही पिछले दो सालों के अंदर करीब 17 हजार करोड़ रुपये के नशे और ड्रग्स रैकेट का पर्दाफाश किया गया.

एनसीबी के विरोध के चलते आर्यन को नहीं मिली जमानत

ड्रग मामले में एनसीबी लगातार आर्यन खान की जमानत का विरोध करती रही है. कोर्ट में आर्यन की जमानत को लेकर गुरुवार को सुनवाई हुई, जहां पर उन्हें राहत नहीं मिली. आर्यन की जमानत पर अब संभावित रूप से 20 अक्टूबर को फैसला होगा, तब तक उन्हें जेल में ही रहना होगा. जज वीवी पाटिल ने कहा है कि वे 20 अक्टूबर को बहुत व्यस्त हैं, लेकिन वे कोशिश करेंगे कि मामले में फैसला दे सकें. कोर्ट ने जमानत की अर्जी पर फैसले को सुरक्षित रख लिया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें