scorecardresearch
 

फर्जी आधार कार्ड पर फाइव-स्टार होटल में ठहरता था सचिन वाजे, दमन से वॉल्वो कार बरामद

महाराष्ट्र एटीएस ने दमन से एक वॉल्वो कार बरामद की है, जिसका संबंध सचिन वाजे से बताया जा रहा है. मनसुख हिरेन केस में महाराष्ट्र एटीएस की जांच जारी है.

X
सचिन वाजे को लेकर नई जानकारी आई सामने (फाइल फोटो) सचिन वाजे को लेकर नई जानकारी आई सामने (फाइल फोटो)
8:23
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मनसुख हिरेन मामले में जांच जारी
  • एटीएस को दमन में मिली वॉल्वो कार
  • सचिन वाजे से भी जारी है पूछताछ

एंटीलिया मामले से जुड़े मनसुख हिरेन हत्या केस में महाराष्ट्र ATS को नया सबूत मिला है. मंगलवार को ATS को दमन में एक गाड़ी मिली है. जानकारी के मुताबिक, इस गाड़ी का इस्तेमाल महाराष्ट्र पुलिस के अफसर सचिन वाजे ने किया था. इतना ही नहीं, सचिन वाजे को लेकर एक और जानकारी आई है जिसके मुताबिक वह फाइव स्टार होटल में फर्जी आधार कार्ड दिखाकर रुका हुआ था.

दमन से मिली है वोल्वो कार
सूत्रों की मानें, तो दमन से जो वॉल्वो कार मिली है उसकी तलाश एनआईए की टीम भी कर रही थी. ऐसे में अब इस गाड़ी को जब्त कर लिया गया है, साथ ही आगे की जांच शुरू कर दी गई है. 

आपको बता दें कि एंटीलिया के सामने जो कार बरामद हुई थी, उसके कुछ दिन बाद ही मनसुख हिरेन का शव भी मिला था. बाद में जांच में पाया गया कि मनसुख हिरेन की हत्या की गई है.

इस मामले की जांच महाराष्ट्र एटीएस कर रही है, बीते दिन ही ये जांच मुंबई से गुजरात पहुंची थी. जहां एटीएस की टीम ने कई सिम बरामद किए थे और लोगों से पूछताछ शुरू कर दी थी.

दरअसल, इस मामले में पुलिस को सबूत मिला था कि जो संदिग्ध सिम थे, उन्हें अहमदाबाद से खरीदा गया था. यही कारण रहा कि एटीएस की टीम गुजरात पहुंची थी. इस हत्याकांड के आरोप में पकड़े गए दो आरोपियों में से एक ने गुजरात से सिम खरीदने की बात कबूल की थी. 

सचिन वाजे से जुड़ी एक और जानकारी आई सामने
इसके अलावा इस पूरे कांड में एक और जानकारी सामने आई है. सूत्रों की मानें, तो सचिन वाजे मुंबई के एक फाइव स्टार होटल में फर्जी आधार कार्ड के सहारे ठहरा हुआ था. एनआईए ने अब फर्जी आधार कार्ड को जब्त कर लिया है.

जानकारी के मुताबिक, सचिन वाजे 16 फरवरी को यहां रुका था, अब होटल की सीसीटीवी फुटेज भी जब्त कर ली गई है. बता दें कि अब एनआईए सचिन वाजे से लगातार सवाल कर रही है और होटल में फर्ज़ी तरीके से रुकने का कारण जानने की कोशिश कर रही है. 

गौरतलब है कि महाराष्ट्र पुलिस के अफसर सचिन वाजे को लेकर लगातार विवाद हो रहा है. पहले उनका नाम एंटीलिया मामले में आया, उसके बाद महाराष्ट्र एटीएस ने मनसुख हिरेन मामले में भी सचिन वाजे को मुख्य आरोपी माना. सचिन वाजे अभी एनआईए की कस्टडी में हैं और 25 मार्च तक सलाखों के पीछे ही रहेंगे. 


 

  • क्या महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख को इस्तीफा देना चाहिए?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें