scorecardresearch
 

क्या है जादुई Rice Puller? जिसके जाल में फंसकर एक ही परिवार के 9 लोगों ने दी जान!

महाराष्ट्र के सांगली जिले के म्हैसाल गांव में एक परिवार के 9 सदस्यों की मौत मामले में नई कहानी सामने आई है. कथित जादुई 'राइस पुलर' के जरिए ठगों ने 3 हजार करोड़ कमाने का झांसा दिया था. गांववालों ने शक जताया है कि चावल खींचने वाली धातु यानी 'राइस पुलर' खरीदने के चक्कर में मृतक परिवार के मुखिया कर्जदार बन गए थे.

X
घटनास्थल पर मौजूद पुलिस. घटनास्थल पर मौजूद पुलिस.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 3000 करोड़ मिलने का दिया गया था झांसा
  • ठगों के चंगुल में फंस गया थे परिवार के मुखिया
  • महाराष्ट्र के सांगली जिले में मिले 9 शव

महाराष्ट्र के सांगली जिले (Sangli District) में हुई एक ही परिवार के 9 सदस्यों की मौत ने देश को झकझोर कर रख दिया है. पुलिस ने कहा है कि यह खुदकुशी का मामला लग रहा है. शुरुआती जांच से पता चला है कि मृत परिवार के दोनों मुखिया कर्ज में डूबे हुए थे. इस मामले में 25 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. वहीं, 13 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. सांगली जिले के म्हैसाल गांव का यह पूरा मामला है.

एक ही परिवार के 9 लोगों की मौत से सकते में आए म्हैसाल गांव के निवासियों ने बताया कि वनमोरे बंधु किसी चावल खींचने वाली धातु (राइस पुलर) के सौदे की बात करते रहते थे. ऐसा सुनने में आया कि दोनों भाइयों को किसी विदेशी कंपनी से 3000 करोड़ रुपये मिलने वाले थे.

वहीं, गांव में चल रही इस खुसरपुसर को लेकर सांगली के एसपी ने कहा कि ये सभी लोगों के बीच चल रही महज एक चर्चा है, उनके पास फिलहाल इसकी पुष्टि करने के लिए कुछ भी नहीं है.

- म्हैसल गांव में चर्चा है कि दोनों भाई चावल खींचने वाले राइस पुलर यानी चावल खींचने वाली जादुई धातु के सौदे में शामिल थे. एक गिरोह ने वनमोरे बंधुओं से वादा किया था कि अगर उन्हें 'चावल खींचने वाली' धातु मिलती है तो उन्हें भारी मुनाफा होगा. कथित तौर पर दोनों भाई गिरोह के चंगुल में फंसकर इस तरह के सौदे के लिए उधार पैसे लेते जा रहे थे.

- 'राइस पुलर' ठगी देश और खासकर महाराष्ट्र के ग्रामीण हिस्सों में आम हैं. इस तरह की ठगी को अंजाम देने वाला गिरोह लोगों से राइस पुलर मतलब चावल खींचने वाली कथित जादुई धातु में निवेश करने के लिए मनाने की कोशिश करता है, जो तांबे और इरीडियम की मिश्रित धातु है. दावा किया जाता है कि आसमानी बिजली के संपर्क में आ जाने से राइस पुलर में अलौकिक शक्ति पैदा हो जाती है. 

आखिर क्या है  'राइस पुलर'?

- ठग दावा करते हैं कि राइस पुलर (जो कि लोटे, कटोरे, गिलास या मूर्ति के आकार का हो सकता है) चुंबकीय शक्ति के चलते अत्यधिक मूल्यवान है, और जिसे नासा (NASA) जैसी वैज्ञानिक संस्था उपग्रहों और स्पेस में ऊर्जा पैदा करने के लिए करोड़ों की कीमत में खरीदती है. इसी लालच में आकर लोग लाखों-करोड़ों की कीमत में 'राइस पुलर' को खरीद लेते हैं, जबकि कोई भी संस्था उनसे 'राइस पुलर' को खरीदने नहीं आती. 

- यही नहीं, शातिर ठग यह भी बताते हैं कि जो लोग इस खास धातु का बर्तन खरीदते हैं, तो उनके व्यापार और धन में दिन दूनी और रात चौगुनी वृद्धि होती है. 'राइस पुलर' को चमत्कारी बताने वाले एक खास टेस्ट भी कराते हैं, जो इसके असली या नकली होने की पहचान बताया जाता है. 

घरों के बीच 1.5 KM का फासला

- कोल्हापुर रेंज के आईजी मनोजकुमार लोहिया ने बताया, दोनों भाइयों ने तमाम लोगों से पैसे उधार लिए थे. जिन घरों में शव मिले थे, उनके बीच 1.5 किमी का फासला है. उन्होंने कहा कि माणिक वानमोर के घर में 6 शव पाए गए, जिनमें वह खुद, उनकी पत्नी, मां, बेटी, बेटे और भतीजे (पोपट वानमोर का बेटा), जबकि पोपट वानमोर, उनकी पत्नी और बेटी के शव डेढ़ किमी दूर दूसरे घर में मिले.

घटना कैसे सामने आई? 

 - आईजी लोहिया के मुताबिक, गांव की एक लड़की माणिक वनमोर के घर यह जानने के लिए गई थी कि उनके यहां से कोई अब तक दूध लेने क्यों नहीं आया? तब उस बच्ची ने घटना के बारे में गांव के लोगों को बताया. एक स्थानीय निवासी ने कहा कि इस मामले की जानकारी देने जब वो पोपट वनमोर के घर गए तो वहां भी तीन शव पड़े मिले. 

- पुलिस को संदेह है कि उन्होंने अपने जीवन को समाप्त करने के लिए कुछ जहरीले पदार्थों का सेवन किया होगा. घटनास्थल पर मिले सुसाइड नोट्स में लिखे नामों के आधार पर इस मामले में 25 लोगों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया है. 13 आरोपी गिरफ्तार कर लिए हैं. 

एक ही परिवार के सभी मृतक.

सुसाइड नोट में उधार लेने की बात

- सुसाइड नोट्स से पता चलता है कि उन्होंने बहुत अधिक उधार लिया था. मृतकों में से एक पोपट वनमोर को कुछ क्रेडिट संस्थानों से वसूली के नोटिस भी मिले थे. हालांकि, हम सभी एंगल से मामले की जांच कर रहे हैं. 

- सांगली के एसपी दीक्षित गेदाम ने भी बताया कि सुसाइड नोट में यह उल्लेख किया गया था कि दोनों भाइयों ने किसी बिजनेस के लिए पैसे लिए थे. हालांकि, आखिर उनका क्या व्यापार था? इसकी जांच बाद में की जाएगी. लेकिन विस्तृत जांच और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ही मौत की सही वजह खुलेगी.

मृतकों के घर के बाहर जुटी भीड़.

एक टीचर और दूसरा पशुओं का डॉक्टर 

बता दें कि सांगली जिले के म्हैसाल गांव में सोमवार को दो भाइयों और उनके परिवार के 9 सदस्यों के शव दो अलग-अलग घर में पाए गए. पुलिस ने दो भाइयों की पहचान पोपट वनमोर (54), डॉ माणिक वनमोर (49), उनकी मां अक्कताई वनमोर (74) के अलावा अन्य मृतकों की पहचान अर्चना वनमोर (29), संगीता पोपट वनमोर (46), शुभम पोपट वनमोर (24), रेखा माणिक वनमोर (43), प्रतीक्षा माणिक वनमोर (20) और आदित्य माणिक वनमोर (16)  के रूप में की है. पोपट वनमोर एक टीचर थे, जबकि माणिक वनमोर एक पशुओं के डॉक्टर थे. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
; ;