scorecardresearch
 

लखीमपुर हिंसा के वक्त घटनास्थल पर मौजूद था आशीष मिश्रा? मोबाइल की लोकेशन पर टिकी जांच

मोबाइल के सहारे आशीष मिश्रा की घटनास्थल पर मौजूदगी की जांच के लिए जांच कमेटी ने मोबाइल टावर के बीटीएस यानी बेस ट्रांसीवर स्टेशन को खंगालना शुरू कर दिया है. गांव के बीटीएस टावर और तिकुनिया में घटनास्थल के बीटीएस टावर को खंगाला जा रहा है. 

आशीष मिश्रा आशीष मिश्रा
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जांच आशीष के मोबाइल की लोकेशन पर टिक गई है
  • टीम ने मोबाइल टावर का डाटा खंगालना शुरू कर दिया है

यूपी के लखीमपुर खीरी में महीने के शुरुआत में हुई हिंसा की जांच तेजी से चल रही है. केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा का बेटा आशीष मिश्रा पुलिस रिमांड पर है और पुलिस उससे पूछताछ कर रही है. पूरी जांच में सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या जिस समय पूरी हिंसा हुई और थार गाड़ी ने किसानों को रौंद दिया, तब क्या आशीष मिश्रा घटनास्थल पर मौजूद था या नहीं. जांच कर रहे अधिकारी इसी के इर्द-गिर्द पूरे मामले की जांच कर रहे हैं. हालांकि, जांच आशीष के मोबाइल की लोकेशन पर टिक गई है. 

मामले की जांच कर रही टीम ने मोबाइल टावर का डाटा खंगालना शुरू कर दिया है. मोबाइल के सहारे आशीष मिश्रा की घटनास्थल पर मौजूदगी की जांच के लिए जांच कमेटी ने मोबाइल टावर के बीटीएस यानी बेस ट्रांसीवर स्टेशन को खंगालना शुरू किया. बलबीरपुर गांव जहां वीवीआईपी कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था. वहां पर आशीष मिश्रा की मौजूदगी सुनिश्चित कराने के लिए गांव के बीटीएस टावर और तिकुनिया में घटनास्थल के बीटीएस टावर को खंगाला जा रहा है. 

किसी भी बीटीएस में एक्टिव मोबाइल कहां पर किस दिशा में एक्टिव है यह आसानी से पता लगाया जा सकता है. वहीं दूसरी तरफ कंसेट्रेशन ऑफ सिग्नल से पता लगाया जाता है कि उस मोबाइल टावर से मोबाइल कितना दूर था. यानी मोबाइल टावर के नजदीक ज्यादा सिग्नल होंगे और दूर होने पर कमजोर सिग्नल हो जाएंगे. हर मोबाइल टावर के बीटीएस की अपनी-अलग आईडी होती है. 

लखीमपुर की जांच कमेटी बलबीर पुर गांव और तिकुनिया के घटनास्थल के बीटीएस टावर का मिलान आशीष मिश्रा के मोबाइल से करेगी. अगर आशीष मिश्रा का मोबाइल हिंसा के वक्त यानी 2:30 से 3:30 बजे के बाद बलवीरपुर के टावर से दूर हुआ तो न सिर्फ टावर बदला होगा, बल्कि उसकी दिशा और सिग्नल भी बदले होंगे. बस इसी जानकारी के मिलने के बाद तय हो जाएगा कि आशीष मिश्रा घटना के वक्त कहां मौजूद थ. वह अपने दोस्त अंकित दास के साथ घटनास्थल पर था या फिर बलबीरपुर में दंगल के मैदान में. जांच टीम को आशीष मिश्रा के मोबाइल और बीटीएस टावर की डिटेल का इंतजार है.

लखीमपुर कांड के आरोपियों के साथ घटनास्थल पहुंची एसआईटी

लखीमपुर खीरी में एसआईटी की टीम घटना वाली जगह पर आशीष मिश्रा, अंकित दास और ड्राइवर को लेकर पहुंची. घटना वाली जगह पर रिक्रिएशन किया. फॉरेंसिक की टीम भी साथ मौजूद रही और हर सबूत को बारीकी से परखा गया. लखीमपुर के तिकनिया में तीन अक्टूबर को बीजेपी नेताओं-कार्यकर्ताओं और किसानों के बीच झड़प हो गई थी, जिसमें चार किसानों समेत कुल आठ लोगों की जान चली गई थी. किसानों का आरोप था कि किसानों को रौंदते समय आशीष मिश्रा गाड़ी में मौजूद था और उसे ही मुख्य आरोपी भी बनाया गया है. हालांकि, अब तक की पूछताछ के दौरान आशीष मिश्रा ने घटनास्थल पर मौजूद होने से इनकार किया है और दावा किया कि वह दंगल वाली जगह पर था, जहां पर कुश्ती के कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें