scorecardresearch
 

क्राइम ब्रांच ने कराया आमना-सामना, हिंसा के बाद अंकित दास भाग गया था नेपाल, कहा- फॉर्च्यूनर में नहीं था आशीष

करीब 2 घंटे की पूछताछ के बाद क्राइम ब्रांच ने अंकित दास का आशीष मिश्रा से भी आमना सामना कराया. अंकित दास और आशीष मिश्रा को आमने-सामने बैठाकर जांच टीम के अफसरों ने कई सवाल-जवाब किए. 

लखीमपुर हिंसा में आरोपी अंकित दास लखीमपुर हिंसा में आरोपी अंकित दास
स्टोरी हाइलाइट्स
  • क्राइम ब्रांच ने कराया अंकित-आशीष मिश्रा का आमना-सामना
  • अंकित को कोर्ट ने तीन दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड में भेजा

लखीमपुर कांड में बयान दर्ज कराने पहुंचे अंकित दास और पुलिस कस्टडी रिमांड पर चल रहे आशीष मिश्रा का क्राइम ब्रांच के दफ्तर में आमना-सामना कराया गया. अंकित दास ने 5 घंटे की पूछताछ में बयान दिया कि आशीष मिश्रा उसकी फॉर्च्यूनर गाड़ी में मौजूद नहीं था. वो अकेला ही था और घटना के बाद नेपाल भाग गया था.

लखीमपुर पुलिस ने क्राइम ब्रांच के दफ्तर अपने गनर लतीफ के साथ पहुंचे अंकित से करीब 5 घंटे की पूछताछ की. बयान दर्ज कराने के दौरान शुरुआती कागजी लिखा-पढ़ी पूरी हुई तो जांच कमेटी के अफसर ने अंकित दास से पूरी घटना से जुड़े सवालों पर करीब 2 घंटे तक अलग कमरे में पूछताछ की. पूछताछ करने वाले अफसरों ने कई बार आशीष मिश्रा से मिली जानकारी पर जुड़े सवाल भी अंकित दास से पूछे. 

गाड़ी पर हमले के सवाल का नहीं दे पाया जवाब

अंकित दास ने कहा फॉर्च्यूनर गाड़ी पर डंडे बरसाए जाने लगे जिसकी वजह से उसके ड्राइवर को भी तेजी से गाड़ी निकालनी पड़ी. उसकी गाड़ी से किसी ने कोई फायरिंग नहीं की. गाड़ी पर हमले की जानकारी पर अफसरों ने कहा कि तुम्हारी फॉर्च्यूनर तो कहीं से नहीं टूटी, पीछे का शीशा भी नहीं टूटा था तो फिर हमला कैसे हुआ? जिस पर अंकित दास कोई जवाब नहीं दे पाया.

टीवी पर देखा आशीष मिश्रा के गिरफ्तारी की खबर

नेपाल भागने के सवाल पर अंकित दास ने कहा घटना के बाद वो सीधे लखनऊ आ गया. लखनऊ में 2 रात अपने फ्लैट पर बिताने के बाद जब उसका नाम खबरों में दिखाया जाने लगा तो वह लखनऊ के एक होटल में चुपचाप जाकर छुपकर बैठ गया. उसने अपने सारे नंबर बंद कर लिए थे. किसी से कोई संपर्क नहीं किया लेकिन 8 अक्टूबर की सुबह ही उसने लखीमपुर के रहने वाले अपने एक करीबी ठेकेदार की स्कॉर्पियो के ड्राइवर को बुलाकर नेपाल भाग गया. नेपाल में रहते हुए ही उसने आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी की खबर टीवी पर देखी. जब अगले दिन अंकित दास के तलाश की खबरें चलने लगे तब उसने क्राइम ब्रांच के सामने पेश होने का मन बना लिया. 

करीब 2 घंटे की पूछताछ के बाद क्राइम ब्रांच ने अंकित दास का आशीष मिश्रा से भी आमना सामना कराया. अंकित दास और आशीष मिश्रा को आमने-सामने बैठाकर जांच टीम के अफसरों ने कई सवाल-जवाब किए. 

अंकित के गनर लतीफ से भी हुई पूछताछ

अंकित दास के साथ-साथ उसके गनर  लतीफ से भी जांच टीम ने अलग से पूछताछ की. लतीफ से पूछा घटना वाले दिन क्या हुआ? वह कैसे भागा तो उसने साफ कहा कि वह अंकित दास का गनर है. वह घटना के वक्त उनके साथ फॉर्च्यूनर में था. अचानक से भीड़ ने हमला किया तो वो अंकित दास के साथ जान बचाकर भाग निकला. फॉर्च्यूनर की गाड़ी में अंकित दास के नाम पर दर्ज दो असलहों के लाइसेंस भी थे, जो जल गए हैं.

कोर्ट ने तीन दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड में भेजा

करीब 5 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार किए गए अंकित दास को क्राइम ब्रांच ने कोर्ट में पेश किया. CJM कोर्ट में चली सुनवाई के दौरान पुलिस ने 14 दिनों की रिमांड कोर्ट मांगी. हालांकि सीजेएम चिंता राम की कोर्ट ने 3 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड की ही स्वीकृति दी है. अंकित दास 14 से 17 अक्टूबर तक पुलिस कस्टडी रिमांड में रहेगा. इधर, दूसरी तरफ आशीष मिश्रा के वकील ने सीजेएम कोर्ट में आशीष मिश्रा और आशीष पांडे की जमानत अर्जी भी डाली थी जिससे सीजेएम कोर्ट ने खारिज कर दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें