scorecardresearch
 

सिंघु बॉर्डर मर्डर: धार्मिक ग्रंथ के पास दिखा था मृतक लखबीर, जानिए पूरा घटनाक्रम

लखबीर सिंह तीन दिन पहले ही सिंघु बॉर्डर आया था. वह निहंग कैंप में रह रहा था जो दिल्ली बॉर्डर के समीप है. बताया जा रहा है कि घटना तीन बजे की है जब लखबीर सिंह सरबलोह ग्रंथ के साथ पाया गया.

X
सिंघु बॉर्डर से क्षत-विक्षत हालत में मिला युवक का शव. (सांकेतिक तस्वीर)
सिंघु बॉर्डर से क्षत-विक्षत हालत में मिला युवक का शव. (सांकेतिक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • संयुक्त किसान मोर्चा ने घटना की निंदा की
  • तीन दिन पहले सिंघु बॉर्डर आया था लखबीर

सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदलनकारियों के मंच के नजदीक शुक्रवार सुबह एक युवक का शव मिलने से सनसनी फैल गई. किसानों के प्रदर्शन स्थल के पास शख्स की बर्बरता से हत्या कर दी गई. संयुक्त किसान मोर्चा ने दावा किया है कि इस हत्या के पीछे निहंग सिख हैं और उन्होंने ही उस शख्स का हाथ काटा और जान ली. पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. मारे गए शख्स की पहचान लखबीर सिंह के तौर पर हुई है.

सिंघु बॉर्डर पर हुई लिंचिग का पूरा घटनाक्रम

लखबीर सिंह तीन दिन पहले ही सिंघु बॉर्डर आया था. वह निहंग कैंप में रह रहा था जो दिल्ली बॉर्डर के समीप है. बताया जा रहा है कि घटना तीन बजे की है जब लखबीर सिंह सरबलोह ग्रंथ के साथ पाया गया. इसपर एक निहंग सिंख ने आपत्ति जताई और उससे सवाल पूछा. इसके बाद विवाद शुरू हो गया. बात इतनी बढ़ गई कि हिंसा शुरू हो गई. आरोप है कि इसके बाद निहंग सिखों ने लखबीर का हाथ काट दिया और फिर उसके आसपास मौजूद लोगों ने लखबीर के पैर काटने को भी कहा. एक के बाद एक कई वार के बाद जब लखबीर ने होश खो दिया तो उसे मरने के लिए छोड़ दिया गया और बाद में उसका शव बैरिकेड से टांग दिया गया. इसके बाद पांच बजे के करीब पीसीआर को कॉल की गई और घटना के बारे में जानकारी दी गई.

मृतक की हुई पहचान

पुलिस सूत्रों के मुताबिक मृतक की पहचान लखबीर सिंह, पुत्र हरनाम सिंह के तौर पर हुई है. हरनाम सिंह ने लखबीर को गोद लिया था जब वह 6 महीने का था. हरनाम सिंह लखबीर के फूफा हैं. जबकि लखबीर के असल पिता का नाम दर्शन सिंह था. लखबीर की उम्र 35-36 साल बताई जा रही है. वह तरन तारन जिले के चीमा खुर्द का रहने वाला था.

लखबीर सिंह के माता पिता पहले ही मर चुके हैं. उसकी एक बहन है राज कौर. लखबीर की पत्नी जसप्रीत कौर उसके साथ नहीं रहती थी. जसप्रीत के साथ ही तीनों बेटियां भी रहती थीं. तीनों बेटियों में कुलदीप कौर 8 साल, सोनिया 10 साल और तानिया 12 साल की है. पुलिस के मुताबिक लखबीर का कोई आपराधिक इतिहास नहीं है, ना ही किसी राजनीतिक दल से वह जुड़ा हुआ है.

संयुक्त किसान मोर्चा ने घटना की निंदा की

संयुक्त किसान मोर्चा ने इस घटना पर बयान जारी कर कहा कि इस घटना में मारे गए शख्स और निहंग समूह का संयुक्त किसान मोर्चा के साथ कोई संबंध नहीं है. संयुक्त किसान मोर्चा किसी भी धार्मिक ग्रंथ, प्रतीक की बेअदबी के खिलाफ है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें