scorecardresearch
 

जोधपुर: कायलाना झील में लापता सैन्य अधिकारी का मिला शव, युद्धाभ्यास के दौरान डूब गए थे

जोधपुर के कायलाना झील के तख्तसागर में पिछले हफ्ते गुरुवार को लापता हुए सेना की स्पेशल फोर्स 10 पैरा के कैप्टन अंकित गुप्ता का शव आज मंगलवार दोपहर मिल गया. अंकित का पता लगाने के लिए जलाशयों में बॉडी डिटेक्ट करने वाले डिवाइस का भी इस्तेमाल किया गया. लेकिन शव हादसे के 6 दिन बाद जाकर मिला.

कैप्टन अंकित गुप्ता का अब तक नहीं मिला कोई सुराग (फाइल फोटो) कैप्टन अंकित गुप्ता का अब तक नहीं मिला कोई सुराग (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कायलाना झील में लापता सैन्य अधिकारी का शव मिला
  • गुरुवार को पूर्वाभ्यास के दौरान डूब गए थे कैप्टन अंकित
  • 75 गोताखोर सुबह 6 बजे से देर रात तक करते रहे तलाश
  • पत्थरों के बीच फंसा हुआ था कैप्टन अंकित का शव

जोधपुर के कायलाना झील के तख्तसागर में गुरुवार को लापता हुए सेना की स्पेशल फोर्स 10 पैरा के कैप्टन अंकित गुप्ता का शव आज मंगलवार दोपहर को मिला. पिछले 6 दिनों से अंकित की तलाश की जा रही थी. इसके लिए जलाशयों में बॉडी डिटेक्ट करने वाले डिवाइस की भी मदद ली गई थी.

लगातार तलाश के बाद तख्तसागर जलाशय में 6 दिन पहले डूबे सेना के कमांडो कैप्टन अंकित गुप्ता का शव आज दोपहर में मिला. कैप्टन अंकित गुप्ता की खोज के लिए सेना ने देशभर से अपने विशेष गोताखोरों की मदद से मार्कोस कमांडो की टीम से रेस्क्यू किया था. लेकिन शव के पत्थरों के बीच में अटक जाने से समय लगा. पत्थरों में फंसे होने के कारण शव ऊपर नहीं आ पा रहा था.

सेना का जानकारी देने इनकार

फिलहाल सेना ने इस बारे में जानकारी देने से इनकार कर दिया है. कैप्टन अंकित गुप्ता का शव तख्तसागर से सेना हॉस्पिटल ले जाया गया है. अभी यह स्पष्ट नहीं है कि उनका अंतिम संस्कार जोधपुर में किया जाएगा या गुरुग्राम में किया जाएगा. सेना ने परिजनों को सूचना दे दी है.

कैप्टन अंकित गुप्ता पिछले हफ्ते गुरुवार को जोधपुर के तख्सागर पर पूर्वाभ्यास के दौरान डूब गए थे. अंकित को तलाशने के लिए बॉडी डिटेक्ट करने वाले डिवाइस की भी मदद ली गई लेकिन डिवाइस भी नाकाम रहा. हालांकि लगातार प्रयास के बाद आज दोपहर उनका शव बरामद किया जा सका.

75 गोताखोर तलाश में लगे

पिछले 6 दिन से लगभग 75 गोताखोर सुबह 6 बजे से देर रात तक कैप्टन अंकित को तलाश कर रहे थे. इन गोताखोरों ने हर तरीके से प्रयास किया, लेकिन उनका कोई सुराग नहीं मिल सका. बाद में पानी में शव को ढूंढने के लिए मददगार शव डिटेक्टर डिवाइस मंगाया गया और इससे भी तलाश की गई. लेकिन कोई खास मदद नहीं मिली. सोमवार देर रात पानी के अंदर तक देखने वाले कैमरों की मदद से भी रेस्क्यू किया जा रहा था.

देखें आजतक LIVE TV

इससे पहले सोमवार को सेना के गोताखोरों में शामिल 20 और गोताखोर बुलाए गए जो पानी के अंदर तक देखने में सक्षम कैमरा से तलाश करने का प्रयास तक कर रहे थे. कायलाना झील के तल तक पाइप को पहुंचाया कंप्रेसर से हाई प्रेशर हवा फेंक कर पानी को हिलाया गया ताकि सतह पर आ जाए लेकिन उसमें भी कामयाबी नहीं मिली.

साथ ही 100 मीटर से ज्यादा के दायरे में पानी में कैमरा डालकर भी सर्च ऑपरेशन किया गया. मार्कोस कमांडो, गोताखोरों सहित 200 लोगों की टीम सर्च ऑपरेशन में जुटी हुई थी, जिसमें 15 बोट सेना के साथ एनडीआरएफ भी शामिल थी. कैप्टन अंकित गुप्ता गुरुवार को जोधपुर के कायलाना झील के तख्तसागर में पूर्वाभ्यास के दौरान डूब गए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें