scorecardresearch
 

झारखंड: तीन दिन तक माओवादियों से चली मुठभेड़, एक नक्सली गिरफ्तार

पश्चिम सिंहभूम के टोंटो थाना क्षेत्र के गोरूबाग पहाड़ी पर भी पिछले तीन दिनों से पुलिस की माओवादियों संग मुठभेड़ जारी थी. उस मुठभेड़ के बाद बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन चलाया गया और एक नक्सली को गिरफ्तार भी कर लिया गया.

सयुंक्त कार्रवाई के बाद एक नक्सली गिरफ्तार सयुंक्त कार्रवाई के बाद एक नक्सली गिरफ्तार
स्टोरी हाइलाइट्स
  • तीन दिन तक माओवादियों संग मुठभेड़
  • सयुंक्त कार्रवाई के बाद एक नक्सली गिरफ्तार
  • माओवादियों ने शुरू की थी गोलीबारी

झारखंड के कुछ क्षत्रों में अभी भी माओवादियों का सक्रिय रहना चिंता का विषय है. कई इलाकों में आज भी माओवादियों की गतिविधियां लगातार जारी हैं. पश्चिम सिंहभूम के टोंटो थाना क्षेत्र के गोरूबाग पहाड़ी पर भी पिछले तीन दिनों से पुलिस की माओवादियों संग मुठभेड़ जारी थी. उस मुठभेड़ के बाद बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन चलाया गया और एक नक्सली को गिरफ्तार भी कर लिया गया.

तीन दिन तक माओवादियों संग मुठभेड़

इस ऑपरेशन के बारे में एसपी अजय लिंडा ने बताया कि पुलिस बल ने मुठभेड़ के दौरान ही टोंटो के रेंगड़ा का माओवादी आबील कोड़ा को गिरफ्तार कर लिया है. आबील का कहना है कि वो अजय उर्फ बुधरान और मोछू दस्ते से जुड़ा है. 9 जून को हुई मुठभेड़ में वो दस्ते के साथ था और निगरानी का काम कर रहा था. अब ऑपरेशन के दौरान ये जरूरी गिरफ्तारी तो हुई ही, इसके अलावा माओवादियों द्वारा इस्तेमाल में लाई जा रहीं कईं दैनिक सामाग्री को भी जब्त किया गया. इस लिस्ट में 9 मोबाइल फोन, 6 काला पिट्ठू, 2 काला डांगरी, 20 मीटर के दो काला प्लास्टिक, 8 छाते बरामद किए गए.

सयुंक्त कार्रवाई के बाद एक नक्सली गिरफ्तार

वैसे इस ऑपरेशन को काफी बड़े स्तर पर चलाया गया था और जितनी फोर्स का इस्तेमाल किया गया उसको देख साफ समझा जा सकता है कि ये मामाल काफी गंभीर था. जानकारी मिली है कि इस ऑपरेशन में सीआरपीएफ 174 बटालियन, सीआरपीएफ 60 बटालियन, सीआरपीएफ 197 बटालियन, सीआरपीएफ 157 बटालियन, झारखंड गजुआर, 209 कोबरा बटालियन ने सक्रिय भूमिका निभाई. इस सयुंक्त कार्रवाई की वजह से ही पुलिस के हत्थे एक नक्सली चढ़ पाया और अब उससे पूछताछ की जा रही है.

क्लिक करें- झारखंडः दो युवतियों ने छोड़ा नक्सलवाद का रास्ता, एसपी के सामने मुख्यधारा में हुईं शामिल 

माओवादियों ने शुरू की थी गोलीबारी

बता दें कि माओवादियों ने 9 जून को पुलिस बल पर हमाल किया था. उनकी तरफ से भारी गोलीबारी की गई थी. उसके बाद ही पुलिस की तरफ एक्शन लिया गया और उन्होंने अपनी तरफ से मुंहतोड़ जवाब दिया. जब पुलिस बल उन माओवादियों पर भारी पड़ने लगे, तब उन्हें वहां से भागना पड़ा जिसके बाद सर्च ऑपरेशन शुरू हुआ और एक नक्सली गिरफ्तार कर लिया गया. इस क्षेत्र में इससे पहले भी माओवादियों द्वारा ऐसे हमले किए गए हैं, लेकिन हर बार पुलिस एक्शन के आगे वो कमजोर साबित होते हैं और फिर भाग खड़े होते हैं.

(Input-Jay kumar tanti)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें