scorecardresearch
 

देहरादूनः दिवाली की रात कर दी थी अपने ही परिवार के 5 लोगों की हत्या, कोर्ट ने सुनाई मौत की सजा

उत्तराखंड के देहरादून में अपने ही परिवार के पांच लोगों की निर्मम हत्या करने के आरोपी हरमीत को कोर्ट ने दोषी ठहराया है. कोर्ट ने हरमीत को फांसी की सजा सुनाई है.

कोर्ट ने सुनाई सजा (प्रतीकात्मक तस्वीर) कोर्ट ने सुनाई सजा (प्रतीकात्मक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • प्रॉपर्टी के विवाद में हत्या का था आरोप
  • सजा सुन फफक कर रो पड़ा हरमीत

उत्तराखंड के देहरादून में अपने ही परिवार के पांच लोगों की निर्मम हत्या करने के आरोपी हरमीत को कोर्ट ने दोषी ठहराया है. कोर्ट ने हरमीत को फांसी की सजा सुनाई है. साथ ही हरमीत पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. न्यायालय ने आरोपी हरमीत को जैसे ही सजा सुनाई, वह फफक कर रो पड़ा. घटना 23अक्टूबर 2014 की रात की है.

साल 2014 की दिवाली की रात देहरादून में दिल दहला देने वाले हत्याकांड की खबर लेकर आई थी जिसके बारे में जिसने भी सुना सन्न रह गया. हत्याकांड में दोषी हरमीत सिंह ने अपने ही परिवार के पांच सदस्यों की निर्मम हत्या कर दी. दीपावली की वो रात इस परिवार के लिए एक काली रात बनकर रह गई जब सबको अपनी जान से हाथ धोना पड़ा.

दून के आदर्श नगर स्थित आवास में हत्यारोपी हरमीत सिंह पर आरोप लगा था कि उसने अपने पिता जय सिंह, माता कुलवंत कौर और सौतेली बहन गर्भवती हरजीत कौर उर्फ हनी और अपनी 5 साल की भांजी सुखमणि को चाकू से गोदकर मौत के घाट उतार दिया. आरोप के मुताबिक हरमीत ने इस वारदात को प्रॉपर्टी के विवाद को लेकर अंजाम दिया था. इस वारदात में भांजा कंवलजीत चाकू से घायल होने के बावजूद छिप गया था जिस वजह से उसकी जान बच गई थी. कंवलजीत ही इस पूरी वारदात का एक अकेला चश्मदीद था जिसने यह पूरा हत्याकांड अपनी आंखों से देखा था.

घटना के समय आरोपी की सौतेली बहन हरजीत सिंह उर्फ हनी के पेट में आठ महीने का बच्चा भी था. ADJ 5th आशुतोष मिश्रा की अदालत ने दोषी हरमीत सिंह को फांसी की सजा सुनाई. सजा का ऐलान होते ही दोषी हरमीत सिंह फफक कर रो पड़ा. न्यायालय ने 302, 307 और धारा 316 के तहत सजा सुनाई. कैंट कोतवाली के आदर्श नगर में 24 अक्टूबर 2014 की घटना में परिवार के चार लोगों पर तकरीबन 90 बार  चाकू से वार किया गया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें