scorecardresearch
 

कानपुरः धर्मांतरण विरोध के नाम पर बजरंग दल कार्यकर्ताओं का तांडव, पिटाई के बाद लगवाए जयश्रीराम के नारे

महिला ने दो दिन पहले बजरंग दल के कार्यकर्ताओं से शिकायत की, जिसके चलते बगरंग दल के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने एक साथ मुस्लिम युवक के घर पर धावा बोल दिया. वे सब जबरन युवक को उसके घर से बाहर निकाल लाए और उसकी जमकर पिटाई की. उसको मारते हुए सड़क पर लाए और जबरन जयश्रीम के नारे लगवाए.

युवक की सरेआम पुलिस के सामने पिटाई की गई युवक की सरेआम पुलिस के सामने पिटाई की गई
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महिला ने पुलिस थाने में की थी शिकायत
  • पड़ोसी पर लगाया था धर्म परिवर्तन कराने का आरोप
  • पुलिस ने नहीं लिया कोई एक्शन, बजरंग दल ने किया हमला

उत्तर प्रदेश के कानपुर में धर्म परिवर्तन विरोध के नाम पर बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने जमकर कानून की धज्जियां उड़ाईं. बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने धर्मांतरण के आरोपी बताए जा रहे एक युवक को जबरन उसके घर से खींच लिया और फिर उसकी जमकर पिटाई की. इस दौरान आरोपियों ने युवक से जबरन जयश्रीराम के नारे भी लगवाए. सबसे शर्मनाक बात ये है कि ये सब गुंडई कानपुर पुलिस की आंखों के सामने हुई और पुलिस वहां मौजूद रहकर भी तमाशा देखती रही. 
 
दरअसल, कानपुर के बर्रा इलाके की रहने वाली रानी नामक दलित महिला ने आरोप लगाया था कि उनके पड़ोस में रहने वाला मुस्लिम युवक अफ्तार अहमद उसका धर्म परिवर्तन कराना चाहता है. वह इसके लिए उसे बीस हजार रुपये का लालच भी दे रहा है. महिला ने इस बात की शिकायत बर्रा थाने से लेकर पुलिस अधिकारियों तक से की थी. लेकिन महिला का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की.

तब उस महिला ने दो दिन पहले बजरंग दल के कार्यकर्ताओं से शिकायत की. जिसके चलते बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने एक साथ मुस्लिम युवक के घर पर धावा बोल दिया. वे सब जबरन युवक को उसके घर से बाहर निकाल लाए और उसकी जमकर पिटाई की. उसको मारते हुए सड़क पर लाए और जबरन जयश्रीराम के नारे लगवाए. तब तक पुलिस भी वहां पहुंच चुकी थी. लेकिन पुलिस ने युवक को आरोपियों से छुड़ाने की ज़रूरत नहीं समझी. उल्टे पुलिस वहां खड़े होकर तमाशा देखती रही.

ज़रूर पढ़ें-- जब आधी रात के वक्त गोलियों की आवाज़ से दहल उठा दिल्ली का ये इलाका, पुलिस ने ऐसे किया एनकाउंटर

मारपीट कर घायल करने के बाद बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने युवक को पुलिस के हवाले कर दिया. जिसे लेकर पुलिस थाने आ गई. इस दौरान इलाके में घंटों जमकर बवाल होता रहा. बजरंग दल के हमलावरों का आरोप है कि हमने दो दिन पहले ही पुलिस से धर्म परिवर्तन कराने की शिकायत की थी. लेकिन पुलिस ने कुछ नहीं किया तो हम लोगों ने एक्शन लिया.

 

 

पुलिस की बड़ी लापरवाही
इस पूरे मामले में सबसे शर्मनाक रवैया कानपुर पुलिस का रहा, क्योंकि एक तो उन्होंने धर्म परिवर्तन के मामले में महिला की शिकायत पर कार्रवाई नहीं की. फिर बजरंग दल वालों ने शिकायत की तो भी पुलिस ने जांच क्यों नहीं की. क्या पुलिस जानबूझकर बवाल होने का इन्तजार करती रही. जब मुस्लिम युवक की पिटाई हो रही थी तो उसकी मासूम बच्ची उसके पैर से लिपट कर अपने पिता को बचाने का प्रयास कर रही थी. लेकिन तब भी पुलिस आगे क्यों नहीं बढ़ी. वैसे अब पुलिस मौन तोड़कर कह रही है मामले की जांच की जा रही है.

अब पुलिस बोली-  कार्रवाई करेंगे 
एडीसीपी (साउथ कानपुर) अनिल कुमार ने कहा कि बर्रा इलाके में युवक से मारपीट का मामला सामने आया है. इसमें जांच करके कार्रवाई की जा रही है. किसी का धर्म परिवर्तन करना बिल्कुल गलत है. लेकिन उसके विरोध के नाम पर किसी को सरेआम धार्मिक आधार पर मारना पीटना और गुंडई करना भी जायज नहीं कहा जा सकता. कानपुर (साउथ) की डीसीपी  रवीना त्यागी ने फोन पर आजतक को बताया कि अफ्तार से मारपीट करने वाले आरोपियों के खिलाफ पीड़ित की तरफ से एफआईआर दर्ज कराई जा रही है. मारपीट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें