scorecardresearch
 

नोटों से भरी अलमारियां... कानपुर के इत्र कारोबारी के पास मिला इतना कैश कि 24 घंटे से जारी है नोटों की गिनती

कानपुर में इत्र कारोबारी पीयूष जैन के यहां पर आयकर विभाग की छापेमारी जारी है. इस दौरान अलमारियों में इतने पैसे मिले कि नोट गिनने वाली मशीन मंगानी पड़ी. यह छापेमारी करीब 24 घंटे से चल रही है. पीयूष जैन के घर पर नोटों के बंडल का अंबार लगा हुआ है.

X
पीयूष जैन के घर की अलमारी से मिला 'खजाना' पीयूष जैन के घर की अलमारी से मिला 'खजाना'
स्टोरी हाइलाइट्स
  • DGGI और आयकर विभाग की छापेमारी
  • पीयूष जैन के घर पर नोटों का अंबार मिला

कानपुर में इत्र कारोबारी पीयूष जैन के यहां आयकर विभाग की छापेमारी जारी है. छापेमारी के दौरान आयकर विभाग को कई अलमारियों में नोट भरे मिले हैं, जिसे गिनने में टीम को कई घंटे लग गए हैं. पीयूष जैन के घर के बाहर अभी तक नोटों से भरे 6 बक्से रखे हैं. इन बक्सों को आयकर विभाग की टीम ले जाने की तैयारी में है. मौके पर पीएसी बुला ली गई है.

बता दें कि कन्नौज के इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर स्थित घर पर डीजीजीआई और इनकम टैक्स ने गुरुवार को छापा मारा था. इस दौरान अलमारियों में इतने पैसे मिले कि नोट गिनने वाली मशीन मंगानी पड़ी. यह छापेमारी करीब 24 घंटे से चल रही है. पीयूष जैन के घर पर नोटों के बंडल का अंबार लगा हुआ है. 

जानकारी के मुताबिक, पहले ये छापा अहमदाबाद की डीजीजीआई यानी जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय की टीम ने डाला था, लेकिन जब पीयूष जैन के यहां नोटों का अम्बार मिलने लगा तो इनकम टैक्स की टीम को शामिल कर लिया गया.  नोटों को गिनने के लिए चार मशीनें मंगानी पड़ी थी. चौबीस घंटे से नोटों की गिनती चल रही है.

आलम ये है इन नोटों को रखने के लिए इनकम टैक्स ने अबतक 6 स्टील के बड़े-बड़े बक्से मंगा लिए हैं. इन बक्सों में नोट सील करके इनकम टैक्स की टीम ले जाएगी. अभी छापे की कार्यवाही खत्म नहीं हुई है.

यहां देखें छापेमारी का वीडियो-

कौन हैं पीयूष जैन

पीयूष जैन कन्नौज की इत्र वाली गली में अपना इत्र का कारोबार करते हैं. इनके कन्नौज, कानपुर के साथ मुंबई में भी ऑफिस हैं. इनकम टैक्स को इनकी लगभग चालीस से ज्यादा ऐसी कम्पनियां मिली है, जिनके माध्यम से पीयूष जैन अपना इत्र कारोबार चला रहे थे. आज भी कानपुर की ज्यादातर पान मसाला यूनिट, पान मसाला कम्पाउंड पीयूष जैन से ही खरीदती है. इसी चक्कर में पीयूष जैन कन्नौज से कानपुर आकर आनंद पूरी में रहने लगे थे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें