scorecardresearch
 

फर्जी मेडिकल करवाया और जमा कर लिए सर्टिफिकेट भी, CRPF भर्ती के नाम पर 60 युवकों से ठगे 80 लाख

झारखंड के 3 जिलों के 60 युवकों से 80 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है. इन युवकों से सीआरपीएफ (केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स) में बहाली के नाम पर लाखों की ये वसूली की गई है. इसमें 50 आदिवासी युवकों से डेढ़-डेढ़ लाख रुपये लिया गया, जबकि पांच जनरल युवकों से दो-दो लाख रुपये की ठगी की गई है.

X
60 Men duped 60 Men duped
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 60 युवकों से 80 लाख रुपये की ठगी
  • CRPF में बहाली के नाम पर कराया मेडिकल

झारखंड के गुमला, सिमडेगा और खूंटी जिले के 60 युवकों से 80 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है. इन युवकों से सीआरपीएफ (केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स) में बहाली के नाम पर लाखों की ये वसूली की गई है. इसमें 50 आदिवासी युवकों से डेढ़-डेढ़ लाख रुपये लिया गया, जबकि पांच जनरल कैटेगरी के युवकों से दो-दो लाख रुपये की ठगी की गई है. इतना ही नहीं, ठग ने सभी 60 युवकों का उनके ऑरिजिनल प्रमाण पत्र लेकर उनको सीआरपीएफ में बहाली से संबंधित पत्र भी जारी कर दिए. ठगी के शिकार हुए युवकों ने गुमला के एसपी से इसकी लिखित शिकायत की है. साथ ही FIR दर्ज करते हुए ठग से पैसा व ऑरिजल प्रमाण पत्र वापस दिलाने की मांग की है. युवकों ने कहा है कि ठगी करने वाला व्यक्ति खुद सीआरपीएफ का जवान है जो कि सागर वंसिग सराईकेला खरसांवा का निवासी है.

ठग ने युवकों को बुलाकर कराया था मेडिकल भी

वर्ष 2018 में सभी 60 युवक सीआरपीएफ में जाने की तैयारी कर रहे थे. इसी दौरान ठग ने सबसे पहले ओमप्रकाश साहू से संपर्क किया. ठग ने कहा कि जनरल को दो लाख व आदिवासी युवकों को डेढ़ लाख रुपये देना होगा. उनसे कहा गया कि सिर्फ मेडिकल होगा और सभी की बहाली हो जायेगी. धीरे-धीरे सभी 60 युवक एक दूसरे से संपर्क में आये और ठग को नकद राशि दे दी. ठग ने सभी युवकों को मेडिकल के लिए चक्रधरपुर बुलाया, यहां ज्योति क्लिनिक में कैंप लगाकर सभी युवकों का मेडिकल कराया. उनसे मैट्रिक व इंटर का ऑरिजन प्रमाण पत्र ले लिया गया और एक लेटर दिया गया. जिसमें बहाली हुए युवकों का नाम व रैंक थी.

किसी ने धान- बैल बेचकर तो किसी ने लोन लेकर दी थी रकम

इसके बाद सभी को नागपुर में आकर नौकरी ज्वाइन करने के लिए कहा गया. जब सभी युवक नागपुर गये तो उन्हें पता चला कि वे ठगी के शिकार हो गये हैं. बाद में ठग ने कहा कि वह पैसा वापस कर देगा लेकिन वह बहाने बनाता रहा. इसके बाद सभी युवकों ने गुमला एसपी से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की. इन लोगों में से किसी युवक ने घर का धान- बैल बेचकर, जमीन बंधक रखकर तो किसी ने गांव की महिला मंडल से लोन लेकर सीआरपीएफ में बहाली के लिए पैसा दिया था, लेकिन किसी की बहाली नहीं हुई और पैसा डूब गया.

मजदूरी कर धीरे-धीरे लोन चुका रहे युवक

सिमडेगा के युवक ओमप्रकाश साहू ने बताया कि उसने सात एकड़ जमीन बंधक रखी है. उसने कहा मेरे भाई पवन साहू व दुर्गा साहू ने भी बहाली के लिए पैसा दिया था. जब ठगी की जानकारी मिली तो बंधक जमीन को छुड़ाने के लिए पवन व दुर्गा दूसरे राज्य में मजदूरी करने के लिए पलायन कर गये. इधर, गुमला पनसो के मुन्ना उरांव ने बताया कि उसने महिला मंडल से डेढ़ लाख का लोन लिया था. बाद में जमीन बंधक रखकर 50 हजार चुकता कर पाया. मैंने महिला मंडल से धीरे-धीरे पैसा वापस करने की बात कही है. गुमला मुरकुंडा पतराटोली के शनिशेखर भगत ने कहा कि मैंने लोन लेकर पैसा दिया था. परंतु ठग ने मुझे बर्बाद कर दिया. इसके मैं मजदूरी करने गोवा चला गया. कुछ पैसा कमाकर लौटा तो महिला मंडल को वापस कर पाया हूं. अभी और पैसा देना है. इधर मामले की जांच कर रहे SP गुमला एहतेशाम ने कहा है कि दोषी को जल्द ही पकड़ लिया जाएगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें