scorecardresearch
 

दिल्ली दंगों के आरोपियों को तिहाड़ जेल में मारने की साजिश नाकाम, मरकरी के साथ आरोपी गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने दावा किया है कि तिहाड़ जेल में बंद दिल्ली दंगों के आरोपियों को तिहाड़ जेल में मरकरी (पारा) देकर मारने की साजिश थी. जेल में शाहिद और जेल के बाहर से असलम ने साजिश रची.

तिहाड़ जेल (फाइल फोटो) तिहाड़ जेल (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली पुलिस ने किया दावा
  • जेल में बंद शाहिद ने रची साजिश
  • आरोपी अंकित को मारने का था प्लान

दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद दिल्ली दंगों के आरोपियों को जेल में ही मारने की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है. दिल्ली पुलिस ने दावा किया है कि तिहाड़ जेल में बंद दिल्ली दंगों के आरोपियों को तिहाड़ जेल में मरकरी (पारा) देकर मारने की साजिश थी. जेल में शाहिद और जेल के बाहर से असलम ने साजिश रची. असलम को जेल में शाहिद तक पारा पहुंचाना था.

आपको बता दें कि तिहाड़ जेल में बंद शाहिद ने साल 2015 में दिल्ली के ख्याला में एक महिला के साथ रेप किया था, उसके बाद उसने महिला और उसके 2 बच्चों की हत्या कर दी थी. रेप और ट्रिपल मर्डर के आरोप में शाहिद तिहाड़ में बंद है. शाहिद ने ही जेल में बंद दिल्ली दंगों के आरोपी अंकित समेत 2 और लोगों की हत्या की साजिश रची थी.

अंकित पर दिल्ली दंगों में हत्या का आरोप है. स्पेशल सेल के सूत्रों के मुताबिक, शाहिद ने जेल में रहते प्लान बनाया था और जेल के बाहर मौजूद असलम से मरकरी की डिमांड की थी. साजिश की भनक लगने पर स्पेशल सेल ने टेक्निकल सर्विलांस रखना शुरू किया और साजिश को नाकाम किया. साथ ही मरकरी को जब्त करते हुए आरोपी को गिरफ्तार किया है.

पुलिस के मुताबिक, दिल्ली दंगों के दौरान मौजपुर पुलिया और शिव विहार पुलिया के पास हत्या करने वाले आरोपियों अंकित समेत दो की की हत्या की साजिश थी. फिलहाल, पुलिस के आला अधिकारी आरोपी से पूछताछ कर रहे हैं. साथ ही यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि आखिर शाहिद और असलम, अंकित को क्यों मारना चाहते थे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें