scorecardresearch
 

दिल्लीः ऑक्सीजन सिलेंडर के नाम पर बेच रहे थे फायर एक्सटिंग्विशर, 2 शातिर ठग गिरफ्तार

पहले दिल्ली पुलिस ने ऑक्सीजन सिलेंडर और रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले दर्जनों लोगों को गिरफ्तार किया है. लेकिन पुलिस के गिरफ्त में आए ये दोनों आरोपी इंसान और इंसानियत के नाम पर धब्बा हैं.

X
पुलिस ने शातिर ठग आशुतोष और आयुष को गिरफ्तार कर लिया है पुलिस ने शातिर ठग आशुतोष और आयुष को गिरफ्तार कर लिया है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ऑक्सीजन सिलेंडर के नाम पर ठगी
  • मरीज के साथ ऐसी धोखाधड़ी का पहला मामला

कोरोना के इस दौर में जहां लोग एक तरफ परेशान हैं, वहां जालसाज ब्लैक मार्केटिंग और जालसाज़ी करने से बाज नहीं आ रहे हैं. दिल्ली पुलिस ने ऐसे ही दो अपराधियों को गिरफ्तार किया है, जो कोरोना के इस मुश्किल दौर में ऑक्सीजन सिलेंडर के नाम पर फायर एक्सटिंग्विशर बेच कर ठगी कर रहे थे.

पहले दिल्ली पुलिस ने ऑक्सीजन सिलेंडर और रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले दर्जनों लोगों को गिरफ्तार किया है. लेकिन पुलिस के गिरफ्त में आए ये दोनों आरोपी इंसान और इंसानियत के नाम पर धब्बा हैं.

दरअसल, उत्तम नगर पुलिस को बिंदापुर की रहने वाली गीता अरोड़ा ने एक शिकायत दर्ज कराई थी कि उन्हें अपने मरीज के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत थी. काफी कोशिशों के बाद उनको किसी भी अस्पताल में दाखिला नहीं मिला. तब ऑक्सीजन सिलेंडर की तलाश करते वक्त उनकी मुलाकात आशुतोष नामक एक शख्स से हुई. आशुतोष के साथ उसका एक साथी आयुष भी था.

इन दोनों जालसाजों ने गीता अरोड़ा को ऑक्सीजन सिलेंडर के नाम पर फायर एक्सटिंग्विशर बेच दिए. गीता अरोड़ा को जब इस बात की जानकारी हुई कि उनके साथ धोखा हो गया है. तो उन्होंने इन दोनों ठगों को कई फोन लगाएं. लेकिन उनका फोन बंद हो चुका था. जिसके बाद पुलिस से इस बात की शिकायत की. 

इसके बाद द्वारका जिले की पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू की. पुलिस ने आशुतोष और आयुष के मोबाइल नंबरों को सर्विलांस पर लगाकर उनकी लोकेशन पता की. और उनकी गिरफ्तारी के लिए कोशिशें तेज कर दी. इसी के चलते पुलिस ने विकासपुरी के रहने वाले आशुतोष और आयुष दोनों शातिर ठगों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने उनके पास से 4 फायर एक्सटिंग्विशर बरामद किए हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें