scorecardresearch
 

सुकमाः नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, 7 किलो का बम बरामद, जवानों ने किया नष्ट

नक्सली हमेशा से ही सुरक्षा बल के जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए आईईडी बम का इस्तेमाल करते नजर आते हैं और यही वजह है कि सुकमा के अंदरूनी क्षेत्रों में नक्सलियों ने जगह-जगह आईईडी प्लांट कर रखे हैं.

नक्सली अक्सर सुरक्षा बल के जवानों को निशाना बनाने के लिए आईईडी का इस्तेमाल करते हैं नक्सली अक्सर सुरक्षा बल के जवानों को निशाना बनाने के लिए आईईडी का इस्तेमाल करते हैं
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सुरक्षा बल के जवान चला रहे थे सर्च ऑपरेशन
  • ग्राम मीनपा के जंगल में आईईडी बम
  • सुरक्षा बल के जवानों ने बम किया नष्ट

छत्तीसगढ़ के सुकमा में सुरक्षा बल के जवानों ने नक्सलियों की एक बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया. कोबरा जवानों ने पुलिस और सुरक्षा बल के जवानों को नुकसान पहुंचाने के मकसद से लगाए गए 7 किलो के आईईडी बम को बरामद करने के साथ ही नष्ट कर दिया. इस तरह से एक बड़ी घटना होने से बच गई. ये बम उसी स्थान पर लगाया गया था, जहां 17 जवान शहीद हुए थे. 

सुकमा में नक्सल प्रभावित ग्राम मीनपा के जंगलों से ये बम बरामद किया गया. फिर उसे मौके पर ही नष्ट कर दिया गया. इस कार्रवाई का लाइव वीडियो भी जवानों ने कैमरे में कैद किया है. दरअसल, नक्सली हमेशा से ही सुरक्षा बल के जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए आईईडी बम का इस्तेमाल करते नजर आते हैं और यही वजह है कि सुकमा के अंदरूनी क्षेत्रों में नक्सलियों ने जगह-जगह आईईडी प्लांट कर रखे हैं.

जानकारी के मुताबिक नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत सुरक्षा बल के जवान अंदरूनी इलाको में सर्चिंग पर निकले थे. इसी दौरान मीनपा के जंगलों में सर्चिंग करते हुए जवानों ने 7 किलो वजनी आईईडी बम बरामद किया. फिर मौके पर ही उस बम को निष्क्रिय कर दिया गया. इस कार्रवाई का वीडियो भी जवानों ने अपने मोबाइल फोन में कैद किया है. 

मीनपा जंगल का ये वही इलाका है, जहां बीते साल पुलिस और नक्सलियों के बीच बड़ी मुठभेड़ हुई थी. जिसमें सुरक्षाबल के 17 जवान शहीद हो गए थे. यह क्षेत्र नक्सलियों का गढ़ माना जाता है. इस कार्रवाई को सुकमा पुलिस और कोबरा फोर्स की बड़ी सफलता माना रहा है. क्योंकि अगर उस बम में धमाका होता तो उसकी चपेट में आने से कई लोगों की जान जा सकती थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें