scorecardresearch
 

एंटीलिया केस में NIA जांच के बीच उद्धव सरकार का बड़ा फैसला, मुंबई पुलिस कमिश्नर का तबादला

एंटीलिया केस में बढ़ती जांच के बीच उद्धव सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह का तबादला कर दिया गया है. उनकी जगह अब हेमंत नगराले ने मुंबई पुलिस कमिश्नर का पद संभाल लिया है. परमवीर सिंह का तबादला होमगार्ड विभाग में किया गया है.

X
 हेमंत नगराले ने मुंबई पुलिस कमिश्नर का पद संभाल लिया है.   हेमंत नगराले ने मुंबई पुलिस कमिश्नर का पद संभाल लिया है.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • परमवीर सिंह का तबादला होमगार्ड विभाग में किया गया
  • हेमंत नगराले ने मुंबई पुलिस कमिश्नर का पद संभाला
  • NIA जांच के बीच उद्धव सरकार ने लिया बड़ा फैसला

एंटीलिया केस में बढ़ती जांच के बीच उद्धव सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह का तबादला कर दिया गया है. उनकी जगह अब हेमंत नगराले मुंबई पुलिस कमिश्नर का पद संभाल लिया है. परमवीर सिंह का तबादला होमगार्ड विभाग में किया गया है. पुलिस कमिश्नर  के पद का कमान संभालने के लिए हेमंत नागराले पुलिस कमिश्नर मुख्यालय पहुंचे. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि मुंबई पुलिस कठिन दौर से गुजर रही है.  उन्होंने कहा कि जो कुछ भी हुआ है उससे मुंबई पुलिस की छवि धूमिल हुई है. नगराले ने कहा कि हम इस मुश्किल का समाधान निकालेंगे.

परमवीर सिंह के तबादले को उनके डिमोशन के तौर पर देखा जा रहा है. होमगार्ड विभाग में तबादले को सजा के तौर पर देखा जाता है. इससे पहले शीना बोरा केस के दौरान भी राकेश मारिया को मुंबई पुलिस कमिश्नर पद से हटाकर उनका तबादला होमगार्ड विभाग में किा गया था. उस समय महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस थे.

वहीं, अगर नए  मुंबई पुलिस कमिश्नर हेमंत नगराले की बात करें तो वह साल 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी रह चुके हैं. उन्होंने वीएनआईटी नागपुर से इंजीनियरिंग की है और जेबीआईएमएस से उन्होंने फाइनेंस मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रैजुएशन किया है. रजौर एएसपी के तौर पर नक्सल प्रभावित चंद्रपुर में उनकी पहली पोस्टिंग हुई थी. उन्होंने राष्ट्रपति पुलिस मेडल,  विशेष सेवा मेडल और आंतरिक सुरक्षा पदक भी जीता है.

उधर, महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर निशाना साधा है और मनसुख हिरेन की मौत के मामले की जांच भी एनआईए से कराने की मांग की है. उन्होंने कहा कि शिवसेना सचिन वाजे को बचा रही है और इस घटना में वाजे मोहरा हैं. मामले के आका के बारे में भी पता लगाया जाना चाहिए और इस बात से भी पर्दा उठना चाहिए कि आखिर एंटीलिया के बाहर कार रखने और उसमें जिलेटिन की छड़े रखने के पीछे क्या मंशा थी.

ये भी पढ़ें-

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें