scorecardresearch
 
क्राइम न्यूज़

प्रेमी संग मिलकर की पति की हत्या, पुलिस के सामने रचा अपहरण का नाटक

प्रेमी के साथ की पति की हत्या.
  • 1/5

कानपुर में पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने एक कातिल पत्नी की साजिश की कहानी का ढाई महीने बाद पर्दाफाश कर दिया. पति के कत्ल की वजह को देख हर कोई दंग रह गया. पुलिस ने बताया कि आरोपी पत्नी ने पति को अपने रास्ते से हटाने के लिए 3 महीने पहले प्रेमी के साथ मिलकर बेरहमी से पति का कत्ल कर दिया था. फिर पुलिस को झांसा देने के लिए उसके अपहरण की झूठी सूचना दे दी थी.

पुलिस के सामने गम में जान देने की कोशिश.
  • 2/5

पुलिस के मुताबिक, 5 अक्टूबर को आरोपी पत्नी रेनू ने अपने प्रेमी मोनू के साथ मिलकर घर में ही अपने पति रवि की हत्या कर दी. उसके बाद मोनू ने अपने रिश्तेदार भोले के साथ मिलकर लाश को कानपुर से सैकड़ों किलोमीटर दूर ठिकाने लगा दिया.

पत्नि ने पुलिस को दी सूचना कि मेरे पति का हुआ है अपहरण.
  • 3/5

दूसरी तरफ रेनू ने पुलिस को सूचना दे दी कि मेरे पति का किसी ने अपहरण कर लिया है. उसने अपने शातिर अंदाज में घटना को छिपाने के लिए कलाई पर चीरा लगाकर सुसाइड का नाटक भी किया. आरोपी रेनू ने पुलिस को ये जताने की कोशिश भी कि पति के गम में वह सुसाइड करने जा रही है. लेकिन पुलिस ने आरोपी पत्नी को अपने पति की हत्या करने के मामले में गिरफ्तार कर लिया. पुलिस इसके प्रेमी मोनू को पहले ही जेल भेज चुकी है.

पुलिस ने किया आरोपी पत्नी और प्रेमी को गिरफ्तार.
  • 4/5

एसपी क्राइम सुरेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि 5 अक्टूबर को रेनू ने अपने पति के अपहरण की सूचना दी थी. इसके बाद इसके भाई ने भोले के खिलाफ हत्या की एप्लिकेशन दी फिर बांदा में पति की लाश मिली जिसके बाद भोले को जेल भेज दिया गया. फिर परिजनों की शिकायत पर क्राइम ब्रांच ने गहराई से जांच की तो रेनू और भोले को पकड़ा गया. 

पुलिस कर रही मामले की जांच.
  • 5/5

पुलिस का कहना है कि रेनू और मोनू का प्यार लॉकडाउन में शुरू हुआ था. उस समय मोनू अपना काम छोड़कर रेनू के घर में रहने आया था. वह रेनू का भतीजा लगता था. लेकिन इस शातिर महिला ने पहले उससे नाजायज संबंध बनाए फिर उसके साथ मिलकर पति को ठिकाने लगा दिया. वहीं, खुलासा होने के बाद आरोपी पत्नी कह रही है कि हत्या मोनू ने की थी, लाश भी वही अकेले ले गया था. पुलिस का कहना है कि हमने सर्विलांस के माध्यम से चेक किया कि घटना के समय इनकी कहां कहां लोकेशन थी. इनकी बातचीत के लिए मैसेज चेक किए जिसके बाद इन लोगों तक पहुंचना आसान हो गया.