scorecardresearch
 
क्राइम न्यूज़

जिंदगी से जंग हार गई हाथरस की बेटी, गैंगरेप के बाद आरोपियों ने की थी हैवानियत

सांकेतिक तस्वीर
  • 1/10

निर्भया गैंगरेप के बाद भी देश में बेटियों से दरिंदगी रुकने का नाम नहीं  ले रही है.  जगह और नाम भले बदल जाएं लेकिन बेटियों की हालत आज भी पहले जैसी ही है. 2012 में निर्भया के साथ गैंगरेप करने वाले दोषियों को तो फांसी की सजा मिल गई लेकिन आज भी ऐसे लोग समाज में हर तरफ घूम रहे हैं जो कभी निर्भया तो कभी हाथरस की बेटी को अपनी हवस का शिकार बना रहे हैं. ऐसे लोगों का चेहरा जरूर बदला है लेकिन महिलाओं को लेकर इनका चरित्र आज भी पहले जैसा ही है. शायद इसलिए इन्हें कानून का भी कोई खौफ नहीं है.

सांकेतिक तस्वीर
  • 2/10

यही वजह है कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में इन दरिंदों की शिकार हुई बेटी ने दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया. दरिंदों ने ना केवल दलित युवती से गैंगरेप किया बल्कि उसके साथ इस कदर हैवानियत की कि उसकी दिल्ली में इलाज के दौरान मौत हो गई. 

सांकेतिक तस्वीर
  • 3/10

ये घटना 14 सितंबर की है. हाथरस के एक गांव में आम दिनों की तरह उस दिन भी युवती जानवरों के लिए चारा लेने अपनी मां के साथ खेत गई थी. उस अंदाजा भी नहीं था कि वो दिन उसके जिंदगी का सबसे खौफनाक और जानलेवा दिन होने वाला है.

सांकेतिक तस्वीर
  • 4/10

खेत में गांव के ही कुछ दबंग युवक आ धमके और उसके साथ जबरदस्ती करने लगे. लड़की ने खुद को उन दरिंदों से बचाने की बहुत कोशिश की लेकिन आरोपी उसे अपनी हवस का शिकार बनाते रहे. चार युवकों ने बारी-बारी से उससे गैंगरेप किया. बेटी के चीखने की आवाज सुनकर युवती की मां उसे ढूंढते हुए वहां आ पहुंची तो आरोपी खेत से फरार हो गए.

सांकेतिक तस्वीर
  • 5/10

गैंगरेप के बाद खेत से फरार होने से पहले आरोपियों ने क्रूरता की सभी हदें पार कर दीं.  उन्होंने युवती को इतनी बेरहमी से मारा - पीटा कि वो खुद के पैरों पर खड़ी भी नहीं रह पा रही थी. 

सांकेतिक तस्वीर
  • 6/10

बेटी की गंभीर हालत देखकर मां ने आसपास के लोगों से मदद मांगी और उसे पास के ही एक अस्पताल में भर्ती कराया जहां लड़की की हालत गंभीर हो गई. युवती ने इशारों-इशारों में अपने बयान में बताया कि उसके साथ गांव के ही कुछ लोगों ने गैंगरेप किया और उसकी हत्या का प्रयास कर रहे थे.  कार्यवाहक सीओ सादाबाद महिला अधिकारियों के साथ पहुंच कर युवती की स्थिति देखी जिसके बाद आरोपियों के खिलाफ धाराएं बढ़ाई गईं.

सांकेतिक तस्वीर
  • 7/10

युवती का शुरुआती इलाज करने वाले स्थानीय अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया था कि लड़की की गर्दन को बहुत ही कूरता और बेदर्दी से मरोड़ा गया था जिस वजह से उसे सर्वाइकल स्पाइन इंजरी हो गई. डॉक्टरों ने बताया कि इससे युवती के शरीर का निचले हिस्से ने काम करना बंद कर दिया और उसे सांस लेने में भी तकलीफ होने लगी.

सांकेतिक तस्वीर
  • 8/10

डॉक्टरों ने ये भी बताया कि युवती को जेएन मेडिकल कॉलेज अस्पताल में वेंटिलेटर पर रखा गया लेकिन उसकी स्थिति लगातार गंभीर होती जा रही थी.

सांकेतिक तस्वीर
  • 9/10

वहीं दूसरी तरफ युवती के परिवारवालों पुलिस की कार्रवाई से नाखुश थे और उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने तत्काल कोई एक्शन नहीं लिया. युवती की गंभीर होती स्थिति को देखते हुए जेएन मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों ने 20 सितंबर को युवती को दिल्ली रेफर कर दिया.

सांकेतिक तस्वीर
  • 10/10

उस दलित युवती को कुछ दिन पहले दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां आखिरकार हाथरस की बेटी जिंदगी की जंग हार गई.  इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई.मामला बढ़ता देख पुलिस ने चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. हालांकि पुलिस पर शुरुआत में मामले को लेकर लापरवाही बरतने के आरोप अब भी लग रहे हैं.