scorecardresearch
 

Clubhouse Chat: कोर्ट ने तीनों आरोपियों को पुलिस रिमांड में भेजा, महिलाओं पर की थी अभद्र टिप्पणी

कथित घटना अक्टूबर और नवंबर 2021 में हुई जब कुछ महिलाओं ने देखा कि ऐप पर तस्वीरें अपलोड की गई थीं और उनके बारे में अपमानजनक और आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी. दो महिलाओं ने शिकायत दर्ज कराई और कहा कि एक समय उनके प्राइवेट पार्ट को नीलाम करने की बात चल रही थी.

X
सांकेतिक तस्वीर. सांकेतिक तस्वीर.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हरियाणा के रहने वाले हैं तीनों आरोपी
  • 24 जनवरी तक कोर्ट ने हिरासत में भेजा

क्लब हाउस चैट मामले में बांद्रा मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट ने हरियाणा के 3 आरोपियों को 24 जनवरी 2022 तक पुलिस रिमांड में भेज दिया है. तीनों आरोपियों की पहचान आकाश सुयाल, जैष्णव कक्कड़ और यश पराशर के रूप में हुई है. तीनों को शनिवार को गिरफ्तार किया गया था. आरोप है कि तीनों ने क्लब हाउस मोबाइल एप्लिकेशन पर विशेष समुदाय की महिलाओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी.  .
 
कथित घटना अक्टूबर और नवंबर 2021 में हुई जब कुछ महिलाओं ने देखा कि ऐप पर तस्वीरें अपलोड की गई थीं और उनके बारे में अपमानजनक और आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी. दो महिलाओं ने शिकायत दर्ज कराई और कहा कि एक समय उनके प्राइवेट पार्ट को नीलाम करने की बात चल रही थी.
 
19 जनवरी को पुलिस ने दर्ज किया था मामला

इस शिकायत के आधार पर मुंबई पुलिस के साइबर सेल ने 19 जनवरी, 2022 को FIR दर्ज की थी. आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 153A (विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना), 295A (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले दुर्भावनापूर्ण कार्य), 354D (पीछा करना), 509 (महिला की शील का अपमान करने वाले शब्द) और 500 (मानहानि) के तहत मामला दर्ज किया गया था. इसमें सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 67 को भी जोड़ा गया था.
 
एफआईआर दर्ज होने के बाद साइबर सेल की यूनिट्स को इंस्टाग्राम पर आपत्तिजनक चैट के स्क्रीन शॉट्स मिले और चैट में इस्तेमाल किए गए अकाउंट नामों के आधार पर मामले के संभावित आरोपियों के नामों को ट्रैक किया गया. इसके बाद आरोपी आकाश सुयाल (19) को करनाल से गिरफ्तार किया गया, जबकि दो अन्य आरोपी जैष्णव कक्कड़ (21) और यशकुमार उर्फ ​​यश पाराशर (22) को मुंबई पुलिस ने हरियाणा के फरीदाबाद से गिरफ्तार किया.

मुंबई पुलिस ने उन्हें मुंबई लाने से पहले उनका ट्रांजिट रिमांड लिया था. सुयाल कथित तौर पर 'क्लबहाउस' में चैट रूम का मॉडरेटर था. पुलिस के मुताबिक, ये तीनों दो चैट रूम का हिस्सा थे, जहां प्रतिभागियों ने महिलाओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी. आपत्तिजनक चैट के दो वीडियो 16 से 19 जनवरी को वायरल हुए थे. इसके बाद मामले दर्ज किए गए.

क्लब हाउस ऐप क्या है?

Clubhouse ऐप अप्रैल 2020 में लॉन्च किया गया था. इस ऐप की सबसे खास बात प्राइवेसी है. ये किसी भी ऑडियो कन्वर्सेशन को स्टोर करके नहीं रखता. पहले ये सिर्फ Apple के ऐप स्टोर पर उपलब्ध था, लेकिन बाद में एंड्रायड यूजर्स के लिए भी इसे उपलब्ध करा दिया गया. ये ऐप इन्वाइट बेस्ड है, यानी सभी लोग इसे यूज नहीं कर सकते हैं.

इस ऐप को किसी दोस्त (जो ये ऐप यूज कर रहे हैं) से इन्वाइट मिलने पर यूज किया जा सकता है. या इन्वाइट के लिए रिक्वेस्ट देकर वेटिंग में जा सकते हैं. इसको जॉइन करने के लिए आपको अपना नाम और मोबाइल नंबर देना होता है. यूजरनेम को इन्वाइट मिलने से पहले चेंज किया जा सकता है. इसके बाद आपको क्लबहाउस की ओर से एक SMS मिलेगा. जो आपका Clubhouse के लिए इनविटेशन होगा. इसके बाद आसानी से आप अपने मोबाइल नंबर से ऐप में साइन-इन कर सकते हैं. क्लब हाउस सोशल नेटवर्किंग ऐप है जो ऑडियो चैट पर आधारित है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें