scorecardresearch
 

CM योगी का OSD बनकर CVO को फर्जी कॉल कर मांगे पैसे, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस

मुख्यमंत्री से मामला जुड़ा होने के चलते कोतवाली पुलिस ने धारा 419 और 420 के तहत केस दर्ज कर लिया है. एसओजी टीम आरोपी की तलाश में जुटी है.

X
fake call fake call
स्टोरी हाइलाइट्स
  • CVO को फर्जी कॉल कर मांगे पैसे
  • आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस

खुद को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का OSD बताकर एक शख्स ने देवरिया मुख्य पशु चिकित्साधिकारी (CVO) को फोन कर खाते में पैसे ट्रांसफर करने की मांग की. उसने कहा कि डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के रिश्तेदार मेहंदीपुर बालाजी में सड़क दुर्घटना में घायल हो गए हैं. ऐसे में उनके इलाज के लिए तुरन्त उनके खाते में 12 हजार रुपये ट्रांसफर कर दीजिए. सीवीओ ने ऐसा नहीं किया और फोन करने वाले के खिलाफ सदर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया है. इस सम्बन्ध में सीओ सिटी श्रीयस त्रिपाठी ने बताया कि सीवीओ की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और आरोपी की तलाश की जा रही है.

गौरतलब है की सीवीओ देवरिया पीएन सिंह के मोबाइल पर चार जनवरी की रात करीब दस बजे मुख्यमंत्री के OSD का नाम बताकर एक शख्स ने फोन किया. उसने कहा कि डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के रिश्तेदार मेहंदीपुर बालाजी में सड़क दुर्घटना में घायल हो गए है, उनके खाते में तुरंत बारह हजार रुपये भेज दें.

इस पर जब सीवीओ पीएन सिंह ने इनकार किया तो शख्स ने कहा कि तुम्हारे खिलाफ कार्रवाई हो जाएगी. इस पर भी सीवीओ नहीं माने तो फोन करने वाला शख्स धमकाते हुए मंदिर से फोन कराने की धमकी देने लगा और बड़े अधिकारियों से फोन कराने की बात करने लगा. फोन करने वाले शख्स ने अपर जिलाधिकारी कुंवर पंकज को भी फोन किया और कहा कि आपका सीवीओ फोन नहीं उठा रहा है. चूंकी उस दौरान अपर जिलाधिकारी मीटिंग में थे, लिहाजा फोन डिस्कनेक्ट हो गया. ADM ने सीवीओ से फोन उठाने को कहा तो सीवीओ की बात तो हुई लेकिन सीवीओ ने पैसे नहीं दिए.

उन्होंने दूसरे दिन ADM से पूरे प्रकरण को बताया, जिसके बाद सदर कोतवाली में आरोपी के खिलाफ तहरीर दी गयी. मुख्यमंत्री से मामला जुड़ा होने के चलते कोतवाली पुलिस ने धारा 419 और 420 के तहत केस दर्ज कर लिया है. एसओजी टीम आरोपी की तलाश में जुटी है.

मुख्य पशु चिकित्साधिकारी पीएन सिंह ने बताया कि ऐसा है कि 4 जनवरी रात 9:55 पर मेरे फोन पर एक कॉल आई वह कॉल मुश्किल से कुछ सेकेंड की रही होगी. उन्होंने बस इतना बताया कि मैं आनंद कौशिक, ओएसडी, सीएम सर इसके बाद फोन कट गया. इसके बाद मैं फोन करने लगा तो उनका कॉल बिजी जा रहा था. फिर उनका फोन आया तो मैं थोड़ा डिस्टर्ब होने लगा कि बात क्या है उसके बाद हमारी बात हुई तो उसने ऐसी बातें कहीं. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें