scorecardresearch
 

यूपी की दो दलित लड़कियांः हाथरस और बलरामपुर में हुई दरिंदगी की दास्तां

सवाल ये है कि आखिर क्या हो रहा है उत्तर प्रदेश में? कहां है कानून? कहां है बात-बात पर एनकाउंटर करने वाली यूपी पुलिस. कहां गई वो सरकारी ताकत जो छोटे-छोटे मामलों में आरोपियों पर तुरंत एनएसए लगाती है, लेकिन रेप जैसी संगीन वारदात को अंजाम देने वालों पर केवल 376 का मुकदमा लिखकर कार्रवाई पूरी की जा रही है.

रेप के मामलों को लेकर यूपी पुलिस और सरकार की किरकिरी हो रही है रेप के मामलों को लेकर यूपी पुलिस और सरकार की किरकिरी हो रही है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • यूपी में रेप की ताबड़तोड़ घटनाओं से सहमी बेटियां
  • यूपी में कानून व्यवस्था पर खड़े हुए सवाल
  • यूपी की घटनाओं पर पूरे देश में गुस्सा

उत्तर प्रदेश में हाथरस की निर्भया के साथ हुए गैंगरेप और कत्ल का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ है कि सूबे के कई दूसरे जिलों में बलात्कार के मामले सामने आए हैं. बलरामपुर में एक छात्रा की गैंगरेप के बाद मौत हो गई, वहीं सुल्तानपुर में भी एक लड़की के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया. बुलंदशहर में एक नाबालिक बच्ची के साथ उसके पड़ोसी ने रेप किया. दूसरी और आजमगढ़ के फ़तेहपुर और बागपत में भी बच्चियों के साथ बलात्कार के शर्मनाक मामले सामने आए हैं. बागपत में तो नाबालिग पीड़िता ने जान देने की कोशिश भी की. 

यूपी में बेटियां महफूज नहीं!
सवाल ये है कि आखिर क्या हो रहा है उत्तर प्रदेश में? कहां है कानून? कहां है बात-बात पर एनकाउंटर करने वाली यूपी पुलिस. कहां गई वो सरकारी ताकत जो छोटे-छोटे मामलों में आरोपियों पर तुरंत एनएसए लगाती है, लेकिन रेप जैसी संगीन वारदात को अंजाम देने वालों पर केवल 376 का मुकदमा लिखकर कार्रवाई पूरी की जा रही है. कहां गया खाकी खौफ? कहां है कानून व्यवस्था का डंडा. हकीकत तो ये है कि यूपी में हर दिन कोई ना कोई बेटी दरिंदगी का शिकार हो रही है. और घटना के बाद पुलिस-प्रशासन का सिर्फ एक जवाब होता है 'कड़ी कार्रवाई की जा रही है.'

बलरामपुर में गैंगरेप और हत्या
हाथरस की निर्भया के मामले ने एक बार फिर सरकारी दावों और पुलिस सुरक्षा के इंतजामों को बेनकाब कर दिया. हाथरस की निर्भया के दम तोड़ने के बाद 29 सितम्बर को यूपी के बलरामपुर में एक छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया. मंगलवार की सुबह छात्रा फीस जमा करने अपने कॉलेज गई थी. शाम के वक्त एक रिक्शा चालक छात्रा को बेहोशी की हालत में उसके घर के पास छोड़कर चला गया. परिजन छात्रा को अस्पताल ले जाने लगे लेकिन रास्ते में ही छात्रा की मौत हो गई. परिजनों का आरोप है कि उनकी बेटी के साथ गैंगरेप किया गया था. इस मामले में पुलिस ने आरोपियों खिलाफ मुकदमा दर्ज किया और दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. पीड़िता के परिजनों ने कहा कि पीड़िता के शव का अंतिम संस्कार उनकी अनुमति से किया गया. परिजनों ने जिला प्रशासन से सहायता राशि को बढ़ाने की मांग भी की. 

अमेठी में गैंगरेप
ठीक इस घटना से दो दिन पहले यानी 27 सितंबर की रात केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में थाना जगदीशपुर क्षेत्र के एक गांव में दो लोगों ने एक दलित नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया. पीड़िता अपनी बहन की ससुराल आई हुई थी. उसकी उम्र 15 साल है. दलित किशोरी को रात में सोते वक्त अगवा किया गया. आरोपी उसे जंगल में उठा ले गए. बारी-बारी से उसके साथ बलात्कार किया. फिर बेहोशी की हालत में उसे वहीं छोड़ कर भाग निकले. अगले दिन सुबह ग्रामीणों ने देखा तो इसकी सूचना परिजनों को दी. मामला थाने पहुंचा. एनकाउंटर करने वाली पुलिस ने पहले तो दोनों आरोपियों के ख़िलाफ केवल छेड़खानी का मुकदमा दर्ज किया. लेकिन जब लड़की के मेडिकल ने बलात्कार की गवाही दी तो मजबूरी में पुलिस ने रेप की धारा बढ़ाई. दोनों आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया गया.

बुलंदशहर में भी दरिंदगी
उत्तर प्रदेश के ही बुलंदशहर जिले में एक और बेटी की अस्मत को तार-तार कर दिया गया. मामला थाना ककोड़ क्षेत्र का है. जहां 29 सितम्बर की रात नाबालिग किशोरी के घर में घुसकर पहले उसे नशीला पदार्थ सुंघाया गया. फिर उसे अगवा किया गया. इसके बाद उसके साथ बलात्कार की वारदात को अंजाम दिया गया. परिजन पुलिस के पास पहुंचे. इंसाफ की गुहार लगाई. तब जाकर पुलिस जागी. एक्शन लिया और आरोपी को घटना की सूचना मिलने के 9 घंटे बाद गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस ने सफाई दी और कहा कि आरोपी पीड़िता का पड़ोसी है. पीड़िता का मेडिकल कराया गया है. मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है. 

बागपत में रेप पीड़िता ने की आत्महत्या की कोशिश
यूपी के बागपत में भी 29 सितम्बर को एक नाबालिग रेप पीड़िता ने जहर खाकर जान देने की कोशिश की. आरोपी युवक रेप के बाद उस लड़की को ब्लैकमेल कर रहा था. बदनाम करने की धमकी दे रहा था. परेशान पीड़िता को कोई रास्ता नहीं दिख रहा था. लिहाजा उसने जहर खा लिया. समय रहते उसे बचा लिया गया. बाद में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. कानूनी कार्रवाई की जा रही है. दरअसल, परिजनों को पता ही नहीं था कि बेटी ने जहर क्यों खाया? क्यों वो जान देना चाहती थी?

हालत संभलने के बाद परिजनों ने जब बेटी से जहर खाने का कारण पूछा तो हकीकत सामने आई. गांव के ही एक युवक ने कुछ दिन पहले उसके साथ रेप किया. फिर किसी को ना बताने की धमकी भी दी. आरोपी लगातर उसे ब्लैकमेल कर रहा था. उसने कई बार पीड़िता के साथ रेप किया. विरोध करने पर बदनाम करने की धमकी दी. बस तभी परेशान होकर किशोरी ने जान देने का फैसला किया. परिजनों ने कोतवाली में शिकायत दर्ज कराई है.

फतेहपुर में 6 साल की मासूम बनी शिकार
यूपी के फतेहपुर जिले में एक 6 साल की मासूम के बलात्कार की वारदात को अंजाम दिया गया. घटना भी 29 सितम्बर की है. मासूम की चीख पुकार सुनकर पहुंचे ग्रामीणों ने आरोपी युवक को दौड़कर पकड़ लिया. दरअसल, जिले के ललौली थाना क्षेत्र के एक गांव में 6 साल की मासूम घर के बाहर खेल रही थी. खेलते खेलते वो पड़ोस की एक लड़की के साथ जंगल की तरफ चली गई. जंगल में पहले से मौजूद युवक ने मासूम को पकड़ लिया और उसके साथ दरिंदगी कर डाली. बच्ची की चीख पुकार सुनकर ग्रामीण मौके पर पहुंचे और आरोपी को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. फतेहपुर के एसपी प्रशांत वर्मा ने बताया कि नाबालिग के साथ रेप की घटना सामने आई है. पड़ोसी युवक ने रेप किया. आरोपी अनिल निषाद को गिरफ्तार कर लिया गया है. 

आजमगढ़ में 8 साल की बच्ची से हैवानियत
सूबे के आजमगढ़ जिले में 30 सितम्बर की शाम को एक 8 साल की मासूम के साथ दरिंदगी की गई. मामला जीयनपुर थाना अंतर्गत एक गांव का है. परिजनों ने मोहल्ले के एक युवक के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी. आजमगढ़ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया और आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया. युवक पीड़िता के मोहल्ले में ही रहता है. घटना के वक्त 8 साल की मासूम वहां पर खेल रही थी. आरोपी उसे बहला-फुसलाकर साथ ले गया और उसके साथ रेप किया. पीड़ित मासूम ने अपने परिजनों को घटना की जानकारी दी. तब परिजनों ने पुलिस से शिकायत की. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें