scorecardresearch
 

जेएनयू कांड: उमर और अनिर्बान की पुलिस रिमांड बढ़ी

देशद्रोह का आरोप झेल रहे उमर खालिद और अनिर्बान की पुलिसरिमांड दो दिनों के लिए बढ़ा दी गई है. वहीं जेएनयू के छात्र आशुतोष कुमार को शनिवार को पूछताछ के बाद पुलिस ने छोड़ दिया. उससे रविवार को भी पूछताछ हो सकती है. उस पर जेएनयू परिसर में नौ फरवरी को आयोजित एक कार्यक्रम में भारत विरोधी नारे लगाने का आरोप है.

X
आशुतोष कुमार आशुतोष कुमार

देशद्रोह का आरोप झेल रहे उमर खालिद और अनिर्बान की पुलिसरिमांड दो दिनों के लिए बढ़ा दी गई है. वहीं जेएनयू के छात्र आशुतोष कुमार को शनिवार को पूछताछ के बाद पुलिस ने छोड़ दिया. उससे रविवार को भी पूछताछ हो सकती है. उस पर जेएनयू परिसर में नौ फरवरी को आयोजित एक कार्यक्रम में भारत विरोधी नारे लगाने का आरोप है.

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली पुलिस ने मेट्रोपोलिटन कोर्ट से देशद्रोह के आरोपियों उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य की पांच दिन की पुलिस रिमांड मांगी थी. लेकिन कोर्ट ने दो दिन की पुलिस रिमांड दी है. इस दौरान उन्हें आरके पुरम पुलिस स्टेशन में रखा जाएगा.

दूसरी ओर, जेएनयू में सक्रिय संगठन ऑल इंडिया स्टूडेंट एसोसिएशन (आईसा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष सुचेता डे ने बताया कि पुलिस ने आशुतोष को शुक्रवार रात फोन कर जांच में सहयोग के लिए शनिवार सुबह आरके पुरम पुलिस थाने पहुंचने के लिए कहा था. इसके बाद वह पुलिस के पास गए हैं.

आरोपियों का पुलिस से संपर्क
सुचेता डे के मुताबिक, 'आशुतोष, राम नागा और अनंत प्रकाश नारायण ने जांच में शामिल होने के उद्देश्य से कुछ दिनों पहले पुलिस से संपर्क किया था. उन्होंने पुलिस को अपना मोबाइल नंबर देते हुए जरूरत पड़ने पर बुलाने के लिए कहा था. उन्होंने कभी जांच का विरोध नहीं किया.'

न्यायिक हिरासत में कन्हैया
पुलिस जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के साथ ही विश्वविद्यालय के दो अन्य छात्रों उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य से पहले से पूछताछ कर रही है. कन्हैया को 12 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था. वह न्यायिक हिरासत में हैं. खालिद और भट्टाचार्य ने सरेंडर कर दिया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें