scorecardresearch
 

इस सलमान को इंतजार है 'बजरंगी भाईजान' का

सलमान खान अपनी सुपरहिट फिल्म बजरंगी भाईजान में तो मासूम मुन्नी को उसके मुल्क पाकिस्तान पहुंचा कर वापस लौट आते हैं लेकिन पाकिस्तान का एक शख्स अब भी ऐसे चमत्कार की उम्मीद में है. सलमान नाम का यह शख्स पिछले 22 सालों से अपने मुल्क हिंदूस्तान से दूर पाकिस्तान में रह रहा है. वह अपने मुल्क लौटना चाहता है लेकिन लौट नहीं पा रहा.

X

सलमान खान अपनी सुपरहिट फिल्म बजरंगी भाईजान में तो मासूम मुन्नी को उसके मुल्क पाकिस्तान पहुंचा कर वापस लौट आते हैं लेकिन पाकिस्तान का एक शख्स अब भी ऐसे चमत्कार की उम्मीद में है. सलमान नाम का यह शख्स पिछले 22 सालों से अपने मुल्क हिंदूस्तान से दूर पाकिस्तान में रह रहा है. वह अपने मुल्क लौटना चाहता है लेकिन लौट नहीं पा रहा.

दरअसल सलमान की कहानी उसके जन्म से पहले साल 1984 से शुरु हुई थी. अलीगढ़ के रहने वाले सलमान के पिता विकार अहमद की शादी साल 1984 में पाकिस्तान के शहर कराची में रहने वाली सलमा बेगम के साथ हुई थी. वक्त के साथ उनके सात बच्चे हुए. साल 1993 में सलमान के पिता को पाकिस्तान से फोन आया कि उनके कि उनके ससुर की तबीयत बेहद खराब है. लेकिन उनकी अपनी तबियत भी ठीक नहीं थी.

लिहाजा सलमा बेगम सभी बच्चों को लेकर अकेली पाकिस्तान चली गईं. लेकिन जब उनके घर वापसी का वक्त आया तो उस दौरान दो साल के सलमान की तबीयत अचानक बिगड़ गई. उस वक्त उनके परिवारवालों ने ये सलाह दी कि सलमान को वहीं पाकिस्तान छोड़ जाओ. अगली बार आओ तो ले जाना. सलमा बेगम ने भी अपने घरवालों की बात मानते हुए बीमार सलमान को अपने मां बाप के पास छोड़ दिया और वो खुद बाकी बच्चों के साथ हिन्दुस्तान वापस आ गईं.

असली दिक्कत शुरू हुई कुछ सालों बाद. सलमान के मां-बाप जब भी उसे घर वापस लाने की कोशिश करते तो पासपोर्ट की दिक्कत उनके सामने खड़ी हो जाती. क्योंकि हिन्दुस्तान की सरकार और प्रशासन का कहना था की अगर सलमान हिन्दुस्तानी है तो वो उसे पाकिस्तान में क्यों छोड़ आईं. जबकि पाकिस्तान का कहना है कि जब उसका बाप हिन्दुस्तानी है और उसका जन्म भी हिन्दुस्तान में हुआ है तो हम उसे पासपोर्ट कैसे दें. सलमान के पिता का कहना है कि उनके बेटे सलमान कि एक किडनी खराब हो चुकी है ऐसे में अगर सरकार रियायत दिखाए तो सलमान की घर वापसी हो सकती है.

लेकिन हैरानी की बात तो ये है कि सलमान की मां-बाप की शादी के 31 साल बाद भी उसकी मां सलमा को आजतक हिन्दुस्तान की नागरिकता नहीं मिली है. अब ऐसे में एक मां ने फिर भी हिम्मत नहीं हारी है और वो आज भी अपने बेटे को घर वापस लाने की पुरजोर कोशिश कर रही है. सलमान के घरवालों ने पहली बार साल 2013 में इस्लामाबाद में भारतीय दूतावास से सलमान की वापसी के लिए मदद मांगी थी. लेकिन उन्हें वहां से भी मायूसी ही मिली. फिलहाल सलमान के घरवाले उसकी घर वापसी के लिए दिन-रात दुआ ही कर पा रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें