scorecardresearch
 

निर्भया के वकील ने बताया, दरिंदों को फांसी देने में कितना वक्त लगेगा

निर्भया को जल्द फांसी दिलाने की अर्जी पर बहस करने वाले वकील जितेंद्र झा का कहना है कि दोषी विनय ने भी कुछ वक्त पहले ही राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगाई है यानी कुल मिलाकर यह चारों फांसी की सजा को रोकने के लिए लगातार इस तरह की याचिकाएं लगाकर देरी कर रहे हैं.

निर्भया के चारों गुनहगारों को कब मिलेगी फांसी, इसका सभी को इंतजार (फोटो-REUTERS) निर्भया के चारों गुनहगारों को कब मिलेगी फांसी, इसका सभी को इंतजार (फोटो-REUTERS)

  • बारी-बारी से याचिकाएं लगाकर देरी कर रहे आरोपीः वकील
  • सरकारी एजेंसी अपनी कुंभकरण की नींद में सोई हुई हैं: झा

निर्भया गैंगरेप मामले में 13 दिसंबर को होने वाली सुनवाई पर सबकी निगाहें टिकी हुई हैं. ऐसे में निर्भया को जल्द फांसी दिलाने की अर्जी पर बहस करने वाले वकील जितेंद्र झा का कहना है कि अगर सिस्टम ढंग से काम करें तो महीने भर के भीतर निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाया जा सकता है.

निर्भया मामले पर बहस करने वाले वकील जितेंद्र झा ने आजतक की संवाददाता पूनम शर्मा से खास बातचीत में कहा कि अगर सिस्टम ढंग से काम करे तो महीने भर के भीतर निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाया जा सकता है. पिछले साल जुलाई में सुप्रीम कोर्ट से सभी की अपील खारिज हो गई थी, उसके बाद तीन लोगों की रिव्यू पिटिशन भी कोर्ट ने खारिज कर दी, लेकिन फिर भी चौथे दोषी अक्षय ने रिव्यू पिटिशन अब लगाई है.

जानबूझकर देरी करने में लगे हैं दोषी

उन्होंने आगे कहा कि दोषी विनय ने भी कुछ वक्त पहले ही राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगाई है यानी कुल मिलाकर यह चारों फांसी की सजा को रोकने के लिए लगातार इस तरह की याचिकाएं लगाकर देरी कर रहे हैं.

जितेंद्र झा ने कहा कि निर्भया के केस में फांसी में हो रही देरी की एक वजह यह भी है कि सरकारी एजेंसी अपनी कुंभकरण की नींद में सोई हुई है. फांसी में लगातार हो रही देरी पर उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने फांसी जल्द कराने के लिए कोई कोशिश नहीं की.

वकील जितेंद्र झा ने कहा कि दिल्ली सरकार की यह जिम्मेदारी थी कि सुप्रीम कोर्ट ने जब 3 लोगों की रिव्यू पिटीशन खारिज कर दी तो उनको फांसी पर जल्द से जल्द लटकाने के लिए सरकार की तरफ से कोशिश होनी चाहिए थी, लेकिन ये नहीं किया गया. इन चारों दोषियों को यह पता है कि उन सभी को सजा एक साथ दी जाएगी इसीलिए वह इस मामले को और लंबा खींचने के लिए एक-एक करके याचिका लगा रहे हैं. सिस्टम की इस खामी का वह भरपूर फायदा उठा रहे हैं.

देरी की वजह सिस्टम में खराबी

उन्होंने कहा कि हमारी अर्जी पर 28 और 29 नवंबर को हुई सुनवाई के बाद ही इस मामले में तिहाड़ प्रशासन से लेकर दिल्ली सरकार तक हरकत में आई.

जल्द फांसी दिए जाने की अर्जी भी निर्भया के माता-पिता ने पिछले साल दिसंबर में लगाई थी जिस पर सुनवाई ही 1 साल बाद शुरू हो पाई क्योंकि फास्ट ट्रैक कोर्ट तक में जजों की कमी है, फिर मामला दूसरे जज को ट्रांसफर किया गया.

अक्षय की पिटिशन पर वकील जितेंद्र झा ने कहा कि अब अक्षय ने जो रिव्यू पिटिशन सुप्रीम कोर्ट में लगाई है, उसके खारिज होने के 100 फीसदी चांसेस हैं, क्योंकि ग्राउंड्स बहुत कमजोर है, और हास्यास्पद है. बाकी तीन की याचिका पहले ही सुप्रीम कोर्ट खारिज कर चुका है.

देश में बढ़ रही रेप की घटनाओं पर उन्होंने कहा कि यह बहुत दुखद है कि देश के अलग-अलग हिस्सों में भी बेटियों के साथ रेप हो रहा है, बावजूद इसके निर्भया के केस में सरकारी सिस्टम कुंभकरण की नींद में सोया हुआ है.

अब इस पूरे मामले में इंसाफ करने वाले ही जानें कि वो निर्भया को इंसाफ कब तक दिलाएंगे. खबरें मिलती रहती हैं कि कहीं से फांसी दिलाने के लिए उनकी रस्सी तैयार हो रही है, किसी जेल में उन्हें फांसी देने की तैयारियां चल रही है, लेकिन अमलीजामा कब तक पहनाया जाएगा, यह देखना बाकी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें