scorecardresearch
 

हाथरस कांड: पीड़िता का बड़ा भाई बोला- जहां केस ट्रांसफर होगा अब वहीं रहेंगे

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान पीड़ित परिवार की ओर से वकील सीमा कुशवाहा ने गुरुवार को यही अपील की थी. सीमा कुशवाहा की ओर से कहा गया था कि केस को दिल्ली ट्रांसफर किया जाए और परिवार की सुरक्षा पुख्ता की जाए. 

पीड़ित परिवार को यूपी सरकार ने दी है सुरक्षा (फाइल फोटो: PTI) पीड़ित परिवार को यूपी सरकार ने दी है सुरक्षा (फाइल फोटो: PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गुरुवार को SC में हुई हाथरस कांड की सुनवाई
  • पीड़िता के परिवार की सुरक्षा को लेकर अपील
  • परिवार ने कहा- जहां केस ट्रांसफर होगा, वहीं रहेंगे

हाथरस गैंगरेप कांड को लेकर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से यहां पर पीड़िता के परिवार को सुरक्षा मुहैया कराए जाने पर अदालत में हलफनामा दिया गया. अब सुरक्षा को लेकर पीड़िता के भाई ने आजतक से बात की है, जिसमें वह सुरक्षा से संतुष्ट नज़र आ रहे हैं. हालांकि, केस ट्रांसफर की अपील लगातार कर रहे हैं. 

पीड़िता के बड़े भाई ने कहा है कि हमारा केस अगर सुप्रीम कोर्ट में ट्रांसफर होगा, तो वो वहीं पर ही रहना चाहेंगे. जहां पर भी केस ट्रांसफर होगा, हम वहीं रहेंगे यूपी में नहीं रहेंगे. 

पीड़िता के बड़े भाई बोले कि अब वो दिल्ली में रहकर ही नौकरी करेंगे, यूपी सरकार की ओर से अभी सुरक्षा मुहैया करा दी गई है. लेकिन अगर केस दिल्ली ट्रांसफर होगा, तो वो परिवार समेत यहां से चले जाएंगे.

देखें: आजतक LIVE TV 

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान पीड़ित परिवार की ओर से वकील सीमा कुशवाहा ने गुरुवार को यही अपील की थी. सीमा कुशवाहा की ओर से कहा गया था कि केस को दिल्ली ट्रांसफर किया जाए और परिवार की सुरक्षा पुख्ता की जाए. 

हालांकि, अभी अदालत की ओर से इसपर कोई फैसला नहीं दिया गया है. परिवार ने इसके अलावा ये भी अपील की थी कि सीबीआई अपनी रिपोर्ट सीधे सुप्रीम कोर्ट को ही सौंपे.  

यूपी सरकार ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान हलफनामे में कहा कि परिवार और गवाहों को सुरक्षा मुहैया करा दी गई है. साथ ही ये भी कहा गया कि अदालत सुरक्षा को लेकर जो भी आदेश देगी, उसका पालन किया जाएगा. गौरतलब है कि इस मामले की एक सुनवाई इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में भी हो रही है. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट में परिवार की सुरक्षा को लेकर याचिका दायर की गई थी. 


 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें