scorecardresearch
 

सीरियल किलर्स की नई जोड़ी, हैरान कर देंगे कारनामे

इस दुनिया में सीरियल किलर्स तो बहुत हुए और बहुत से जीते जी किस्से-कहानियों का हिस्सा बन गए. लेकिन पुलिस की गिरफ्त में आए मुनीर और आशुतोष मिश्रा ये सीरियल किलर्स की वो नई जोड़ी है, जिनके आस-पास इस दौर का कोई दूसरा सीरियल किलर टिकता भी नहीं.

भूलने की बीमारी नई नहीं है. अक्सर लोग बहुत सारी चीजें भूल जाते हैं. मगर आप ऐसे कातिल के बारे में क्या कहेंगे जो ये कहे कि उसे दस कत्ल तक की गिनती तो याद है उसके बाद की गिनती याद नहीं. और ये दस की गिनती भी उसे तब याद आई जब पुलिस ने उसे बस एक कत्ल के इल्जाम में पकड़ा. ये कातिल दरअसल पहले लुटेरे हैं. मगर आदत ये है कि लूट के बाद ये अपने शिकार को जिंदा नहीं छोड़ते. कुछ वक्त पहले एनआईए के एक पुलिस अफसर का कत्ल हआ था. ये कत्ल भी इस कातिल ने ही किया था.

इस दुनिया में सीरियल किलर्स तो बहुत हुए और बहुत से जीते जी किस्से-कहानियों का हिस्सा बन गए. लेकिन पुलिस की गिरफ्त में आए मुनीर और आशुतोष मिश्रा ये सीरियल किलर्स की वो नई जोड़ी है, जिनके आस-पास इस दौर का कोई दूसरा सीरियल किलर टिकता भी नहीं. इन्होंने कितने कत्ल किए, गिनती याद नहीं. जानते हैं क्यों? क्योंकि कत्ल और लूटपाट के मामलों में ये सायको सीरियल किलर्स कुछ इतने आगे निकल चुके हैं कि अब इन्हें खुद भी ठीक से ये याद नहीं कि इन्होंने अब तक कितनों की जान ली है और कितने करोड़ रुपए लूटे हैं. और ये बात कोई और नहीं, बल्कि मुनीर और आशुतोष नाम के इन गैंगस्टरों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस खुद अपनी जुबान से कह रही है.

कई मामले दर्ज
करीब दो सालों से पुलिस के छलावा बने मुनीर और उसके साथी आशुतोष को दस कत्ल की गिनती तो याद है. लेकिन इसके आगे नहीं. मुनीर को पिछले 28 जून को यूपी के ग्रेटर नोएडा से गिरफ्तार किया गया. लेकिन चूंकि उसके खिलाफ दिल्ली में भी बहुत से मामले दर्ज थे, दिल्ली पुलिस उसे ट्रांजिट रिमांड पर लेकर आई, लेकिन जब पूछताछ शुरू हुई तो एक के बाद उसने इतनी वारदातों की बात कुबूल की कि खुद पुलिसवालों के लिए हिसाब मिलाना मुश्किल होने लगा. लेकिन ये जुर्म के लिए उसके जुनून का तो सिर्फ एक पहलू भर था.

मुनीर कितना बेरहम है, इसका अंदाजा बस इसी बात से लगाया जा सकता है कि वो लूट और डकैती तो करता है, लेकिन इस काम में अगर कोई एक पल के लिए भी उसके आड़े आ जाए, तो उसे गोली मारने में वो जरा भी देर नहीं करता.

पुलिसवालों को भी नहीं छोड़ता
मुनीर बेरहम तो है, वो पुलिसवालों से भी खास नफरत करता है. कुछ इतना कि जब भी उसे कोई पुलिसवाला अकेला नजर आता है, वो सीधे उसे गोली मार देता है और फौरन उसका हथियार छीन कर भाग निकलता है. फिर इन्हीं हथियारों से वो लूटपाट की अगली वारदात को भी अंजाम देता है. पुलिस की मानें तो अब तक चार से ज्यादा पुलिसवालों का कत्ल कर चुका है और कई मामले भूल चुका है. लेकिन ये तो उसके सिरफिरे मिजाज के अजीब और चौंकानेवाले किस्से अभी और भी हैं.

कई एजेंसियां पीछे पड़ीं
मुनीर शायद अब भी पकड़ में नहीं आता और ना ही उसके सीरियल किलर होने की बात आम होती. अगर उसने एनआईए के डीएसपी तंजील अहमद की जान ना ली होती. लेकिन सिर्फ शक के चलते उसने ना सिर्फ तंजील अहमद और उनकी बीवी का कत्ल कर दिया, बल्कि नफरत में तंजील को 24 गोलियां भी मारीं. और बस इसी के बाद एनआईए और यूपी एसटीएफ समेत कई अलग-अलग एजेंसियां उसके पीछे पड़ गईं.

शक को लेकर तंजील को मारा
जुर्म की दुनिया में मुनीर अपनी जड़ें तो काफी पहले जमा चुका था. लेकिन तंजील अहमद की जान लेने के बाद पहली बार उसका नाम सुर्खियों में आया और सिर्फ यूपी पुलिस ही नहीं, बल्कि एनआईए और यूपी एसटीएफ समेत कई एजेंसियां उसके पीछे पड़ गईं. दरअसल, मुनीर ने अपने कुछ दोस्तों के साथ दिसंबर 2015 में बिजनौर के धामपुर में एक बैंक डकैती डाली. इस डकैती में 91 लाख रुपए लूटे थे. इसके बाद से ही बिजनौर पुलिस मुनीर के पीछे पड़ी थी और मुनीर को लग रहा था कि तंजील पुलिस को उसकी खबर बता रहे हैं, और बस इसी शक में उसने तंजील की जान ले ली.

प्रॉपर्टी के सिलसिले में तंजील से हुई बातचीत
मुनीर के सिर पर लूट के रुपयों से अमीर बनने का कैसा भूत सवार था, इसका अंदाजा सिर्फ इसी बात से लगाया जा सकता है कि वो अलग-अलग बैंक, एटीएम सेंटर और कारोबारियों से लूटे गए करोड़ों रुपए से यूपी में ताबड़तोड़ प्रॉपर्टी खरीद रहा था. और तो और प्रॉपर्टी की खरीद-फरोख्त के सिलसिले में भी उसकी कई बार डीएसपी तंजील अहमद से बातचीत हुई थी. लेकिन बाद में वो खुद ही तंजील पर शक करने लगा था.

फोन नहीं रखता था मुनीर
पुलिस की मानें तो मुनीर एक सायको किलर तो है ही, वो पुलिस के काम करने के तौर तरीके से भी बहुत अच्छी तरह से वाकिफ है. यही वजह है कि वो सर्विलांस से बचने के लिए कभी मोबाइल फोन का इस्तेमाल तक नहीं करता था. और इसी वजह से वो एक के बाद एक लाशें बिछाता रहा, बैंक लूटता रहा, लेकिन सालों साल पुलिस के लिए छलावा बना रहा. दिल्ली के कमला मार्केट के एटीएम में हुई लूट के बाद भी पुलिस तब धोखा खा गई, जब वारदात के दौरान उस इलाके में एक्टिव तमाम मोबाइल नंबर खंगालने के बावजूद उसके हाथ खाली रह गए. जानकार बताते हैं कि पुलिस अफसरों से मुनीर की दोस्ती उसके इस मॉडस ऑपरेंडी की एक अहम वजह थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें