scorecardresearch
 

कुबेर भी आसाराम और नारायण साईं की दौलत के आगे कुछ नहीं

कहते हैं कि बुरा वक्त आता है तो हर तरफ से आता है. आसाराम बापू और उनके बेटे नारायण साईं पकड़े तो गए यौन शोषण और बलात्कार के इलजाम में. लेकिन जब जांच शुरू हुई तो पता चला कि साधु के भेष में दोनों दरअसल धन्ना सेठ थे.

कहते हैं कि बुरा वक्त आता है तो हर तरफ से आता है. आसाराम बापू और उनके बेटे नारायण साईं पकड़े तो गए यौन शोषण और बलात्कार के इलजाम में. लेकिन जब जांच शुरू हुई तो पता चला कि साधु के भेष में दोनों दरअसल धन्ना सेठ थे. ऐसा नहीं होता तो जरा सोचिए एक साधु 800 बैंक खाते क्यों खोलेगा? इन खातों से करीब चार हजार करोड़ रुपये कैसे निकलेगा? दो सौ करोड़ से ज्यादा की विदेशी करंसी की लेन-देन क्यों करेगा? ये तो आपको बाप-बेटे की दौलत की हलकी सी झलक भर है वरना दौलत का आंकड़ा तो दस हजार करोड़ या उससे भी ऊपर जा रहा है.

बात अंबानी या बिल गेट्स की नहीं हो रही है और ना ही दुनिया के बाकी रईसों की. आसाराम बापू और उनका बेटा नारायण साईं बरसों से बाबा का चोला ओढ़े भक्तों को मोक्ष का रास्ता दिखाते आ रहे हैं. मोह-माया के बारे में ज्ञान देते आए हैं, बाप-बेटे की इस जोड़ी ने ऐसा गुल खिलाया और ऐसा चक्कर चलाया कि दौलत भी दोनों के झांसे में आकर उन्हीं के घर में बरसती रही.

आसाराम के एक ही कमरे से मानो कुबेर का खजाना निकल आया हो. नौ-दस हजार करोड़ रुपये तो सिर्फ एक घर के एक कमरे से मिले. जबकि अपने बाबा और उनके बेटे का आश्रम और घर देश के ना जेने कितने राज्यों और शहरो में हैं. जब उन कमरों का दरवाजा खुलेगा तो ये 9-10 हजार करोड़ पता नहीं कहां जा पहुंचेगा?

धन्ना सेठ बाप-बेटे का कुबेर का ये खजाना यूं ही सामने नहीं आया. दरअसल सूरत पुलिस ने नारायण साईं की फरारी के दौरान अक्‍टूबर में अहमदाबाद में उसके आश्रम पर छापा मारा था. तब छापे के दौरान उसके एक कमरे से कुल 42 बोरियां कागजात, छह कंप्यूटर और एक सीपीयू मिला था. कागजात इतने ज्यादा थे कि जांच में दो महीने से ज्यादा का वक्त लग गया.

लेकिन एक बार जैसे ही बोरियों से मिले कागजात और कंप्यूटर में छुपा राज बाहर आया तो सूरत पुलिस भी हैरान रह गई. एक साधु-संत के पास इतनी दौलत? जिसे सिर्फ गिनने और समझने में दो महीने से ज्यादा का वक्त लग जाए? और कमाल ये कि गिनती अग भी पूरी नहीं हुई है. आप सोच भी नहीं सकते इन लोगों ने पैसे से पैसे बनाने के लिए उन पैसों को कहां-कहां इनवेस्ट किया? बस आप नाम सोचते जाइए, इनका इनवेस्टमेंट वहीं मिलेगा.

दूसरों को मोह-माया से दूर रहने का ज्ञान देने वाले बाप-बेटे ने अपने भविष्य को सुरक्षित बनाने के लिए हर उस जगह इनवेस्टमेंट किया जहां-जहां इसकी गुंजाइश थ. इतना ही नहीं बाप-बेटे के बैंक खातों ने ये राज भी खोला कि ये लोगों को लोन पर पैसे देते थे. फिर उस पैसे से बिजनेस में लाभ होता तो सूद के अलावा उस लाभ में से भी हिस्सा लेते.

बात सिर्फ इनवेंस्टमेंट या लोन तक नहीं है. बोरियों ने जो कागजात उगले और कंप्यूटर ने जो राज खोले, उसने तो पुलिस की आंखें और चोंधिया दीं. क्योंकि अब जो सच बाहर आया था वो वाकई बाप-बेटे की चालाकी की पोल खोल रहा था. पुलिस को बाप-बेटे के जो हिसाब-किताब मिले हैं उससे साफ पता चलता है कि दोनों साधु के साथ-साथ बेहतरीन बिजनेसमैन भी थे. लोगों को लोन पर पैसे देते और फिर उस पैसे पर सूद के साथ-साथ बिजनेस में लाभ होता तो उसमें भी हिस्सा लेते थे. पुलिस के अनुसार बाप-बेटे के पास से जो संपत्ति मिली है उसके बाद अब देश की कई एजेंसियां एक साथ दोनों से हिसाब-किताब मांगेंगी.

बाप-बेटे ने छह कंप्यूटर के अंदर करीब-करीब पूरा बैंक खोल रखा था. इन कंप्यूटरों में देश के करीब-करीब सभी बैंकों के आठ सौ खातों का जिक्र था. तमाम खाते आसाराम और नारायण साईं के करीबी रिश्तेदारों, सेवक और साधकों के नाम पर हैं. हालांकि इन खातों का इस्तेमाल होता सिर्फ आसाराम और नारायण साईं के लिए था. बैंक खातों की जांच करने पर पता चला कि इन खातों से अब तक करीब साढ़े तीन हजार से चार हजार करोड़ के बीच पैसे निकाले या जमा किए गए हैं.

खातों और कागजात की जांच में पुलिस को जो सबसे चौंकाने वाली चीज मिली वो थी विदेशी करंसी की लेन-देन. बकौल पुलिस कागजात साबित करते हैं कि बाप-बेटे ने करीब-करीब दो सौ करोड़ की विदेशी मुद्रा का भी हेर-फेर किया है. सूरत पुलिस के मुताबिक बाप-बेटे के पास सबसे ज्यादा संपत्ति जमीन के तौर पर है. इसकी कीमत का अभी सही अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता. क्योंकि ये जमीन गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और ना जाने किन-किन इलाके में हैं. पुलिस के मुताबिक ज्यादातर जमीन या तो बेनामी है या फिर जिनकी जमीन है उन्हें भ्रम में रखकर उनसे ली गई है.

पुलिस के मुताबिक संबंधित विभाग को जांच के लिए जमीन के कागजात भेज दिए गए है. अब वही ये पता लगाएगी कि जिस वक्त जमीन खरीदी गई और अब उसकी क्या कीमत होगी. कमाल देखिए कि बाप बेटा दोनों इस वक्त जेल में हैं और वो भी यौन शोषण और बलात्कार के इलजाम में. पर बोरियों ने जो संपत्ति उगली है उसके बाद दोनों अब कई और धाराओं में लिपट गए हैं. भ्रष्टाचार के साथ-साथ अब इनकम टैक्स, रेवेन्यू डिपार्टमेंट, फेमा और ना जाने किन-किन विभाग के कौन-कौन से सेक्शन जुडने जा रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें