scorecardresearch
 

मौत का नया रंग! इंसानों में कैसे पहुंची रेंगने वाले जानवरों की बीमारी? क्या है Experts की राय

मौत का नया रंग! इंसानों में कैसे पहुंची रेंगने वाले जानवरों की बीमारी? क्या है Experts की राय

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के कहर के बीच पहले से ही ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस ने देश के लोगों की मुश्किलें बढ़ा रखी है. अब इस बीच येलो फंगस भी सामने आया है. जानकारों का मानना है कि ब्लैक और व्हाइट फंगस के मुकाबले येलो फंगस कहीं ज्यादा खतरनाक है. व्हाइट फंगस लोगों के लंग पर असर डालता है, ब्लैक फंगस ब्रेन को अफेक्ट करता है. लेकिन येलो फंगस इन दोनों से खतरनाक है और आज से पहले किसी भी इंसान में इस तरह का फंगस नहीं पाया गया है. तो आखिर ये इंसानों में आया कैसे?

Black fungus and white fungus have already scared the people. Now, the yellow fungus has also come to the fore. Experts believe that yellow fungus is more dangerous than black and white fungus as no such fungus has been found in any human being before today. So how did it reach humans?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें