scorecardresearch
 

कोरोना से लड़ने के लिए केंद्र ने राज्यों को कितने करोड़ दिए? जानें संसद में दिया जवाब

मंगलवार को लोकसभा में कोरोना की रोकथाम को लेकर सरकार द्वारा तत्काल प्रभाव से बनाई गई योजनाओं और राज्यों को आवंटित राशि के बारे में पूछा गया, जिसका जवाब गृह राज्यमंत्री की ओर से दिया गया.  

मॉनसून सत्र में कोरोना पर चर्चा हुई (फाइल फोटो) मॉनसून सत्र में कोरोना पर चर्चा हुई (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मॉनसून सत्र में कोरोना का मुद्दा सबसे गरम
  • इस मुद्दे पर विपक्ष के सरकार से तीखे सवाल

कोरोना की दूसरी लहर में मची तबाही को लेकर मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर है. वहीं, मॉनसून सत्र में कोरोना का मुद्दा सबसे गरम है. सदन में विपक्षी दल के नेता इस मुद्दे पर सरकार से तीखे सवाल कर रहे हैं.

मंगलवार को लोकसभा में कोरोना की रोकथाम को लेकर सरकार द्वारा तत्काल प्रभाव से बनाई गई योजनाओं और राज्यों को आवंटित राशि के बारे में पूछा गया, जिसका जवाब गृह राज्यमंत्री की ओर से दिया गया.  

इस पर जवाब देते हुए गृह राज्यमंत्री ने कहा कि 'स्वास्थ्य राज्य का विषय है' और कोविड की चुनौतियों के बीच केंद्र सरकार सभी राज्यों को तकनीकी और वित्तीय सहायत उपलब्ध कराती रहती है.

उन्होंने कहा कि राज्यों को वित्तीय सहायत राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (NRHM) के तहत उपलब्ध कराई जाती है. वित्तीय वर्ष 2019-20 के दौरान राज्यों को NRHM के अंतर्गत उनके सामान्य संसाधन की उनकी व्यवस्था के अतिरिक्त कोविड की रोकथाम के लिए 1113.21 करोड़ रुपये जारी किए गए थे.

वहीं, केंद्र सरकार ने अप्रैल 2020 में 15000 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए थे, जो कोरोना से निपटने और स्वास्थ्य प्रणाली को बेहतर करने के लिए है. इस पैकेज के तहत वित्तीय वर्ष 2020-21 में राज्यों को कोविड प्रबंधन और नियंत्रण के लिए 8247.88 रुपये की राशि दी गई है.

इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा जुलाई 2021 से मार्च 2022 तक की अवधि के लिए 23,123 करोड़ रुपये (केंद्रीय हिस्से के रूप में 15000 करोड़ रुपये और राज्य के हिस्से के रूप में 8123 करोड़ रुपये के साथ) की राशि कोविड इमरजेंसी और स्वास्थ्य प्रणाली के लिए अनुमोदित किया गया है.  

राज्यसभा में केंद्र पर बरसे खड़गे

कोरोना पर चर्चा के दौरान कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे दूसरी लहर की त्रासदी को लेकर सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि इतने बड़े देश में कोरोना से कितने लोग मरे क्या ये रहस्य ही बना रहेगा? सरकार देश में कोरोना से 4 लाख से अधिक मौतों की बात बताती है. जो झूठे आंकड़े सरकार जारी कर रही है वो सत्य से दूर हैं. 

उन्होंने कहा कि सरकार को मानना चाहिए वो कोरोना में पूरी तरह फेल रही. आरएसएस पर निशाना साधते हुए खड़गे ने कहा कि संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने 15 मई 2021 को कहा कि जो लोग चले गए वो मुक्त हो गए. आखिर सरकार का समर्थन करने वाले संघ की क्या नीति और मंशा है, ये इससे पता चलता है?

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें