scorecardresearch
 

मॉडर्ना का दावाः 12 से 17 साल तक के बच्चों पर प्रभावी है वैक्सीन, FDA को भेजेंगे आवेदन

FDA ने इसी महीने 12 से 15 साल के बच्चों के लिए फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन को मंजूरी दी है. ऐसे में मॉडर्ना को मंजूरी मिल जाती है तो ये अमेरिका में किशोरों के लिए दूसरी वैक्सीन होगी.

X
मॉडर्ना का दावा (फाइल फोटो) मॉडर्ना का दावा (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन को मंजूरी मिल चुकी है
  • मॉडर्ना मंजूरी के लिए FDA के पास जून में आवेदन करेगी

अमेरिकी वैक्सीन निर्माता कंपनी मॉडर्ना ने बच्चों पर वैक्सीन के प्रभाव को लेकर बड़ा दावा किया है. मॉडर्ना के अध्ययन में सामने आए तथ्य बेहद सकारात्मक हैं. कंपनी ने मंगलवार को बयान जारी कर बताया कि उसकी वैक्सीन बच्चों पर प्रभावी और सुरक्षित है. 

कंपनी द्वारा किए गए ट्रायल में 12 से 17 साल के 3700 से अधिक बच्चे शामिल थे. जिन बच्चों को वैक्सीन की दोनों डोज लगी थीं, उनमें कोरोना के लक्षण नहीं पाए गए. Associated Press के मुताबिक, 2488 बच्चों को दोनों डोज दी गई थी. कंपनी अब वैक्सीन की मंजूरी के लिए अमेरिका की रेगुलेटर बॉडी (FDA) के पास जून में आवेदन करेगी. 

FDA ने इसी महीने 12 से 15 साल के बच्चों के लिए फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन को मंजूरी दी है. ऐसे में मॉडर्ना को मंजूरी मिल जाती है तो ये अमेरिका में किशोरों के लिए दूसरी वैक्सीन होगी. इन दोनों कंपनियों के अलावा एस्ट्राजेनेका पिछले महीने ही ब्रिटेन में 6 से 17 साल तक की उम्र वाले बच्चों पर अपनी वैक्सीन के प्रभाव पर शोध शुरू कर चुकी है. 

बता दें कि बच्चों के लिए मंजूरी पाने वाली दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन फाइजर की थी. कनाडा के ड्रग रेगुलेटर हेल्थ ने 12 से 15 साल के बच्चों के लिए यह वैक्सीन लगाने की इजाजत दी थी. कनाडा के बाद इसे अमेरिका में भी अनुमति मिल गई.

Associated Press के मुताबिक, बच्चों को डमी शॉट्स दिए जाने वाले चार मामलों की तुलना में मॉडर्ना वैक्सीन की दो खुराक देने वालों में कोई COVID-19 निदान नहीं था. एक प्रेस विज्ञप्ति में  कंपनी ने यह भी कहा कि टीका पहली खुराक के दो सप्ताह बाद 93% प्रभावी दिखाई दिया, जबकि वयस्कों की तुलना में बच्चों के COVID-19 से गंभीर रूप से बीमार होने की संभावना बहुत कम है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें