scorecardresearch
 

'हिमालय के रक्षक' सुंदरलाल बहुगुणा का निधन, कोरोना का चल रहा था इलाज

कोरोना वायरस की दूसरी लहर लगातार अपना कहर दिखा रही है. एक के बाद एक कई बुरी खबरें सामने रही हैं. शुक्रवार को मशहूर पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा का कोरोना के कारण निधन हो गया.

X
सुंदरलाल बहुगुणा का निधन (फाइल फोटो: Getty)
सुंदरलाल बहुगुणा का निधन (फाइल फोटो: Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पर्यावरणविद सुंदरलाल बहुगुणा का निधन
  • कोरोना से पीड़ित थे, ऋषिकेश में चल रहा था इलाज

कोरोना वायरस की दूसरी लहर लगातार अपना कहर दिखा रही है. एक के बाद एक कई बुरी खबरें सामने  रही हैं. शुक्रवार को मशहूर पर्यावरणविद सुंदर लाल बहुगुणा का कोरोना के कारण निधन हो गया. वह कोरोना पॉजिटिव थे और उनका इलाज ऋषिकेश एम्स में किया जा रहा था.

मशहूर चिपको आंदोलन के प्रणेता रहे सुंदरलाल बहुगुणा को 8 मई को ही कोरोना संक्रमित होने के बाद एम्स में भर्ती कराया गया था, जहां शुक्रवार (21 मई) को उन्होंने अंतिम सांस ली. सुंदरलाल बहुगुणा की उम्र 94 साल थी. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सुंदरलाल बहुगुणा के निधन पर दुख व्यक्त किया है. 

चिपको आंदोलन के प्रणेता रहे
महात्मा गांधी के सिद्धांतों पर चलने वाले सुंदरलाल बहुगुणा ने 70 के दशक में पर्यावरण सुरक्षा को लेकर अभियान चलाया, जिसने पूरे देश में अपना एक व्यापक असर छोड़ा. इसी दौरान शुरू हुआ चिपको आंदोलन भी इसी प्रेरणा से शुरू किया गया अभियान था. 

तब गढ़वाल हिमालय में पेड़ों की कटाई के विरोध में शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन चलाया गया. मार्च 1974 को कटाई के विरोध में स्थानीय महिलाएं पेड़ों से चिपक कर खड़ी हो गईं, दुनिया ने इसे चिपको आंदोलन के नाम से जाना. 

क्लिक करें: चिपको आंदोलन: जब महिलाओं ने पेड़ से लिपटकर की थी जंगल की रक्षा

बुलाए गए हिमालय के रक्षक
सुंदरलाल बहुगुणा का जन्म उत्तराखंड के टिहरी के पास एक गांव में 9 जनवरी 1927 को हुआ था. अपने जीवन काल में उन्होंने कई आंदोलनों की अगुवाई की, फिर चाहे वो शुरुआत में छुआछूत का मुद्दा हो या फिर बाद में महिलाओं के हक में आवाज़ उठाना हो.

महात्मा गांधी से प्रेरणा लेकर सुंदरलाल बहुगुणा ने हिमालय के बचाव का काम शुरू किया और उसके लिए ही जिंदगीभर आवाज़ उठाई, यही कारण है कि उन्हें हिमालय का रक्षक भी कहा गया.

उत्तराखंड में कोरोना के कारण हालात बदतर
आपको बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर में उत्तराखंड में काफी भयावह स्थिति बन गई है. लगातार राज्य में नए मामलों की संख्या बढ़ रही है, लेकिन चिंता का विषय उत्तराखंड के अंदरूनी हिस्सों में मौजूद गांवों का है. यहां कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन ढंग से इलाज नहीं हो पा रहा है. बीते दिनों ही अल्मोड़ा से तस्वीरें सामने आई थीं, जहां कोविड मरीजों के शवों को जंगल के बीच में ही जलाना पड़ रहा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें