scorecardresearch
 

महाराष्ट्र, गुजरात और तेलंगाना: कोरोना के 3 स्पॉटलाइट राज्य, क्या हैं इनकी बड़ी दिक्कतें?

टेस्टिंग के साथ महाराष्ट्र, गुजरात और तेलंगाना, तीनों राज्यों की अपनी समस्याएं हैं. 8.2 लाख से अधिक टेस्ट करने वाले महाराष्ट्र में टेस्ट पॉजिटिविटी दर देश में सबसे ज्यादा यानि 17.8 प्रतिशत है. तेलंगाना ने बहुत कम टेस्ट किए हैं, 67,000 से थोड़ा अधिक. इस राज्य में TPR 15.5 प्रतिशत है.

नहीं थम रहे हैं देश में कोरोना संक्रमण के केस (तस्वीर-PTI) नहीं थम रहे हैं देश में कोरोना संक्रमण के केस (तस्वीर-PTI)

शुक्रवार से ज्वाइंट हेल्थ सेक्रेटरी लव अग्रवाल के नेतृत्व में केंद्रीय टीम ने तीन राज्यों में Covid-19 की स्थिति जानने के लिए दौरे का क्रम शुरू किया है. ये तीन राज्य हैं- महाराष्ट्र, गुजरात और तेलंगाना. शनिवार को ये टीम महाराष्ट्र के कुछ जिलों का दौरा करेगी. इन तीन राज्यों के आंकड़े क्या हैं जो केंद्र सरकार को चिंतित कर रहे हैं?

तेलंगाना में जिस तेज रफ्तार से कोरोनावायरस केस बढ़ रहे हैं, वो चिंता की बात है. तेलंगाना में इससे पहले केस से 5,000 केस तक पहुंचने में 93 दिन लगे थे. और फिर ये आंकड़ा दोगुना होने में सिर्फ 9 दिन ही लगे.

24 जून को, तेलंगाना में मणिपुर और नगालैंड जैसे छोटे राज्यों के साथ केस दोगुने होने की रफ्तार सबसे तेज थी. पिछले हफ्ते यहां औसतन केवल आठ दिनों में केस दोगुने हो गए, जबकि राष्ट्रीय औसत 19 दिन का है.

doublingrate_hindi_june26-06_062720123114.jpg

महाराष्ट्र में केस बढ़ने की रफ्तार धीमी हुई है. यहां 24 दिनों में केस दोगुने हो रहे हैं, लेकिन राज्य की कुल संख्या चिंता का विषय है. 24 जून तक 1.42 लाख केसों के साथ, महाराष्ट्र में भारत के किसी भी अन्य राज्य से अधिक केस हैं. असल में, अगर महाराष्ट्र एक देश होता, तो यह दुनिया में 17वें सबसे अधिक केस वाला होता.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं औ उन्हें शुक्रिया कहें ...

doublingrate_hindi_june26-07_062720123150.jpg

गुजरात, 29,000 से अधिक केसों के साथ, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली के बाद देश का चौथा सबसे अधिक केस वाला राज्य है. लेकिन गुजरात की बड़ी चिंता इसकी ऊंची मृत्यु दर है. गुजरात में 1,736 मौतें हुई हैं और यहां मृत्यु दर लगातार सबसे ऊंची बनी हुई है.

doublingrate_hindi_june26-08_062720123228.jpg

24 जून तक, गुजरात की केस मृत्यु दर (CFR) राष्ट्रीय औसत 3.12 प्रतिशत के मुकाबले 6 प्रतिशत थी. केसों के ज्यादा बोझ वाले महाराष्ट्र और दिल्ली में CFR 4.72 प्रतिशत और 3.36 प्रतिशत थी.

doublingrate_hindi_june26-09_062720123342.jpg

टेस्टिंग के साथ महाराष्ट्र, गुजरात और तेलंगाना, तीनों राज्यों की अपनी समस्याएं हैं.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

doublingrate_hindi_june26-10_062720123426.jpg

8.2 लाख से अधिक टेस्ट करने वाले महाराष्ट्र में टेस्ट पॉजिटिविटी दर (TPR) देश में सबसे ज्यादा यानि 17.8 प्रतिशत है. तेलंगाना ने बहुत कम टेस्ट किए हैं, 67,000 से थोड़ा अधिक. इस राज्य में TPR 15.5 प्रतिशत है. गुजरात ने टेस्टिंग नहीं बढ़ाई है. 24 जून तक, इसने 3.4 लाख टेस्ट किए, जिसमें TPR 8.5 प्रतिशत की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें