scorecardresearch
 

16 जनवरी से शुरू होगा वैक्सीनेशन, इनको लगेगा सबसे पहले कोरोना का टीका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वैक्सीन को लेकर सोमवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे. 

X
16 जनवरी से शुरू होगा कोरोना वैक्सीनेशन (फाइल फोटो) 16 जनवरी से शुरू होगा कोरोना वैक्सीनेशन (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • देश में 16 जनवरी से होगा कोरोना का टीकाकरण
  • केंद्र सरकार ने कोरोना वैक्सीनेशन को दी मंजूरी
  • भारत में दो कंपनियों की वैक्सीन को मिली है मंजूरी

कोरोना की दहशत झेल रहे देशवासियों के इंतजार की घड़ी अब खत्म हुई. 16 जनवरी से पूरे देश में कोरोना टीकाकारण अभियान शुरू होगा. केंद्र सरकार के मुताबिक तीन करोड़ हेल्थ वर्कर और फ्रंटलाइन वर्करों को सबसे पहले टीका लगाया जाएगा. पहले चरण में जिन बाकी 27 करोड़ लोगों का टीकाकरण होना है, उनका टीकाकरण उसके बाद शुरू होगा. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को समीक्षा बैठक बुलाई थी. इसी बैठक में टीकाकरण अभियान को शुरू करने का फैसला लिया गया. फैसले के मुताबिक सबसे पहले वैक्सीन हेल्थ वर्कर्स को लगाई जाएगी, जिनकी अनुमानित संख्या लगभग 3 करोड़ है. इसके बाद 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों और इससे कम उम्र के उन लोगों को टीके लगेंगे, जो पहले से ही किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं. ऐसे लोगों की संख्या करीब 27 करोड़ है.

इस बैठक में कैबिनेट सेक्रेटरी, पीएम के प्रिंसिपल सेक्रटरी, हेल्थ सेक्रटरी और दूसरे बड़े अधिकारी शामिल हुए. बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने देशभर में कोरोना टीकाकरण की तैयारियों के बारे में जानकारी ली. इस दौरान उन्होंने Co-WIN वैक्सीन डिलिवरी मैनेजमेंट सिस्टम के बारे में भी जानकारी ली.

देखें: आजतक LIVE TV 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि भारत एक नहीं, बल्कि दो 'मेड इन इंडिया' कोरोना वायरस टीकों के साथ मानवता की सुरक्षा के लिए तैयार है. वहीं दुनिया ना केवल कोविड-19 से बचाव के लिए भारत के टीकों का इंतजार कर रही है बल्कि इस पर भी निगाह लगाए है कि कैसे वह विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चलाता है. 

मोदी ने कहा कि भारत के लोकतंत्र पर एक वक्त संदेह प्रकट किया गया था, लेकिन आज भारत ही वह स्थान है जहां लोकतंत्र सबसे अधिक मजबूत है और सबसे जीवंत है. कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि महामारी के इस दौर में भारत ने फिर दिखा दिया कि हमारा सामर्थ्य क्या है और हमारी क्षमता क्या है.

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में आज भारत दुनिया के सबसे कम मृत्यु दर और सबसे अधिक सुधार दर्ज करने वाले देशों में शामिल है.

बता दें, भारत सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशिल्ड और भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी है. वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद से लोग टीकाकरण अभियान के शुरुआत का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वैक्सीन को लेकर सोमवार शाम को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें