scorecardresearch
 

तमिलनाडु: डॉक्टर की कोरोना से मौत, भीड़ ने किया कब्रिस्तान में दफनाने का विरोध

तमिलनाडु में पिछले कुछ दिनों में ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां पर कोरोना की वजह से हुई मौत के कारण शवों को दफनाने का विरोध किया जा रहा है.

सांकेतिक तस्वीर (फोटो: PTI) सांकेतिक तस्वीर (फोटो: PTI)

  • डॉक्टर का शव दफनाने का कब्रिस्तान के बाहर विरोध
  • कोरोना वायरस की वजह से हुई थी डॉक्टर की मौत

देश में इस वक्त कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जंग चल रही है. लेकिन इससे इतर एक जंग उस मोर्चे पर भी जारी है, जहां स्वास्थ्यकर्मियों या किसी कोरोना वायरस से पीड़ित के साथ दुर्व्यवहार किया जा रहा है. चेन्नई में पिछले कुछ दिनों में ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां पर कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति को जब दफनाने के लिए ले जाया गया, तो लोगों ने कब्रिस्तान के पास ही हंगामा शुरू कर दिया.

चेन्नई में सोमवार को जब एक डॉक्टर के शव को दफनाने के लिए कब्रिस्तान ले गए, तो वहां पर 50 से अधिक लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई. भीड़ ने एम्बुलेंस पर हमला बोल दिया, बता दें कि इस 55 वर्षीय डॉक्टर की मौत कोरोना वायरस की वजह से हुई है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

जब भीड़ पर वहां मौजूद पुलिस काबू नहीं पा पाई, तो उन्होंने डॉक्टर के परिजनों से अपील करते हुए शव को किसी दूसरे कब्रिस्तान में ले जाने के लिए कहा. जिसके बाद दूर किसी कब्रिस्तान में डॉक्टर के शव को दफनाया गया.

इस मामले में अब पुलिस की ओर से 20 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. पुलिस ने लॉकडाउन उल्लंघन, हथियार से हमला करने, सरकारी कर्मचारी को ड्यूटी से रोकने के खिलाफ केस दर्ज किया गया है.

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब तमिलनाडु से इस प्रकार का मामला सामने आया हो. बीते दिनों 13 अप्रैल को भी एम्बातुर के नागरिकों ने कब्रिस्तान के बाहर हंगामा किया था. तब एक 62 वर्षीय डॉक्टर की मौत कोरोना वायरस की वजह से हो गई थी और उसे जब कब्रिस्तान में दफनाने के लिए ले गए तो लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

तब भी पुलिस और स्थानीय प्रशासन की सहायता से डॉक्टर के शव को किसी दूसरे कब्रिस्तान में दफनाया गया.

आपको बता दें कि देश के अलग-अलग हिस्सों से ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जहां पर कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति के साथ दुर्व्यवहार हुआ है. या फिर कोरोना वायरस से लड़ाई में सबसे आगे खड़े डॉक्टरों के साथ भी दुर्व्यवहार हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें