scorecardresearch
 

Corona in Delhi: दिल्ली में कोरोना के केस घटे या टेस्टिंग हो रही कम? देखिए क्या कहते हैं आंकड़े

Corona in Delhi: दिल्ली में कोरोना के मामलों में थोड़ी राहत मिलने लगी है. हालांकि, अब टेस्टिंग भी कम कर दी गई है. रविवार को 65,621 टेस्ट हुए. इससे एक दिन पहले शनिवार को 67,624 जांच हुई थी.

X
दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग कम होती जा रही है. (फाइल फोटो-PTI) दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग कम होती जा रही है. (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • एक ही दिन में हो गए 12% नए केस
  • इस महीने पहली बार संक्रमण दर घटी

Corona in Delhi: दिल्ली में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में थोड़ी राहत देखने को मिल रही है. दिल्ली में कोरोना का ग्राफ नीचे आता दिख रहा है और पॉजिटिविटी रेट भी नीचे आ रहा है. कोरोना की तीसरी लहर (Corona Third Wave) में अब तक दिल्ली में एक दिन में सबसे ज्यादा 28,867 मामले सामने आए थे. उसके बाद तीन दिन में ही डेली केसेस में 10 हजार तक की कमी आ गई है. 

दिल्ली सरकार के आंकड़ों के मुताबिक, रविवार को राजधानी में पॉजिटिविटी रेट 27.87 फीसदी रहा. इससे पहले लगातार संक्रमण दर बढ़ ही रही थी. एक दिन पहले 15 जनवरी को 30.64%, 14 जनवरी को 30.64%, 13 जनवरी को 29.21%, 12 जनवरी को 26.22% और 11 जनवरी को 25.65% संक्रमण दर रही थी. 

ये भी पढ़ें-- Corona: Omicron से ठीक होने के बाद शरीर में कितने दिन तक रहती है इम्यूनिटी? एक्सपर्ट ने दिया जवाब

सच में केस घटे या टेस्टिंग घटी?

- दिल्ली में रविवार को शनिवार की तुलना में 12 फीसदी कम संक्रमित मिले. इसके साथ ही टेस्ट भी 3 फीसदी तक कम हो गए. टेस्ट घटने से मामलों में कमी आने पर सवाल भी उठे तो दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendar Jain) ने कहा कि टेस्ट कम होने से केस कम नहीं होते. जिन्हें हल्के लक्षण हैं या हाई रिस्क कॉन्टैक्ट हैं तो ऐसे व्यक्ति टेस्ट जरूरत करवाते हैं.

- लेकिन दिल्ली सरकार के आंकड़े बताते हैं कि राजधानी में टेस्टिंग कम हो रही है. दिल्ली में 13 जनवरी को सबसे ज्यादा 28,867 मामले सामने आए थे. उस दिन 98,832 टेस्ट हुए थे. इसके बाद 14 जनवरी को 79,578 और 15 जनवरी को 67,624 लोगों की जांच हुई.

- रविवार को 65,621 लोगों की कोरोना की जांच हुई. इनमें से 64,183 जांच RTPCR और 15,395 एंटीजन टेस्ट हुए. इनमें से 27.87 फीसदी लोग कोरोना संक्रमित पाए गए. 

क्या इस वजह से घटी टेस्टिंग?

- कोरोना की जांच में कमी आने की एक वजह इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की नई गाइडलाइंस को भी माना जा रहा है. कोरोना टेस्टिंग पर ICMR की नई गाइडलाइन के मुताबिक, पॉजिटिव के संपर्क में आए लोगों को भी कोरोना की जांच कराने की जरूरत नहीं है.

-  ICMR की गाइडलाइन कहती है कि संक्रमितों के संपर्क में आए सिर्फ उन्हीं लोगों को जांच कराने की जरूरत है जिनकी उम्र 60 साल से ऊपर है और जिन्हें कोई गंभीर बीमारी है. सरकार ने बुजुर्गों और गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोगों को हाई रिस्क कैटेगरी में रखा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें