scorecardresearch
 

Corona बेलगाम, अस्पतालों में बढ़ रहे मरीज... क्या दूसरी लहर जैसे हालात के लिए तैयार है दिल्ली?

Corona Omicron in Delhi: दिल्ली में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. एक्टिव केस भी 65 हजार के पार पहुंच गए हैं. अनुमान है कि दिल्ली में 15 जनवरी तक पीक आ सकता है. उस दौरान हर दिन 35 से 70 हजार नए मामले सामने आ सकते हैं.

X
हर दिन 1 लाख मरीज आए तो 28,000 ऑक्सीजन बेड की जरूरत होगी. (फाइल फोटो-PTI) हर दिन 1 लाख मरीज आए तो 28,000 ऑक्सीजन बेड की जरूरत होगी. (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली में इस महीने 70 मरीजों की मौत
  • अभी 1,912 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं

Corona Omicron in Delhi: राजधानी दिल्ली में कोरोना और ओमिक्रॉन के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. सोमवार को दिल्ली में 19 हजार 166 नए मामले आए. 17 लोगों की मौत भी हुई. इसी के साथ दिल्ली में एक्टिव केसेस की संख्या 65 हजार के पार पहुंच गई. दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट भी 25 फीसदी पहुंच गया है. इसका मतलब हुआ कि टेस्ट करने पर हर 4 में से 1 व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है.

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, इस महीने के 10 दिन में 70 कोरोना मरीजों की मौत हो गई है. रविवार और सोमवार को 17-17 लोगों की मौत हुई. जबकि, इससे पहले 5 महीनों में 54 मौतें हुई थीं. दिसंबर में 9, नवंबर में 7, अक्टूबर में 4, सितंबर में 5 और अगस्त में 29 मरीजों की जान गई थी. जुलाई में 76 मरीजों की मौत हुई थी.

ये आंकड़े बताते हैं कि दिल्ली में कोरोना की रफ्तार बेलगाम होती जा रही है. अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है. दिल्ली सरकार के मुताबिक, अभी 1912 कोरोना मरीज अस्पताल में भर्ती हैं. इनमें से 443 आईसीयू में, 503 ऑक्सीजन सपोर्ट पर और 65 वेंटिलेटर पर हैं. जबकि, इससे एक दिन पहले 1,618 कोरोना मरीज अस्पताल में भर्ती थे. यानी, 24 घंटे में ही अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या 18 फीसदी बढ़ गए. 

ये भी पढ़ें-- Corona: दिल्ली में 15 जनवरी के आसपास पीक की आशंका, ऑक्सीजन, ICU की ये हैं तैयारी

दिल्ली को कैसी तैयारी की जरूरत?

- दिल्ली में अभी 65,803 एक्टिव केस हैं. इनमें से 44,028 मरीज होम आइसोलेशन में हैं. अधिकारियों का कहना है कि अगर 1 लाख मामले हर दिन आते हैं तो 28 हजार ऑक्सीजन बेड और 18 हजार आईसीयू बेड की जरूरत होगी.

-  वहीं, अगर हर दिन 75 हजार मरीज आते हैं तो 21 हजार ऑक्सीजन बेड और 13,500 आईसीयू बेड की जरूरत होगी. इसी तरह अगर 50 हजार मामले हर दिन आते हैं तो फिर 14 हजार ऑक्सीजन बेड और 7,200 आईसीयू बेड की जरूरत पड़ सकती है.

दिल्ली कितनी तैयार?

- आईआईटी कानपुर और आईआईटी हैदराबाद के प्रोफेसर का अनुमान है कि दिल्ली में 15 जनवरी तक कोरोना का पीक आ सकता है. इस दौरान 35 हजार से लेकर 70 हजार तक नए मामले हर दिन आ सकते हैं. 

-  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने दावा करते हुए कहा था कि उनकी सरकार हर दिन 1 लाख कोरोना मरीजों को संभालने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा था कि हर दिन 3 लाख टेस्ट कर सकते हैं. मेडिकल ऑक्सीजन और दवाएं भी हैं.

- स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, दिल्ली में 10 जनवरी तक कोविड अस्पतालों में 14,355 बेड हैं. इनमें से 1,999 बेड भरे हैं. वहीं, कोविड केयर सेंटर में 4,582 बेड में से 666 बेड पर मरीज हैं. जबकि, कोविड हेल्थ सेंटर में 158 बेड हैं, जिनमें से 34 पर मरीज भर्ती हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें