scorecardresearch
 

भारत में कोरोना केस घटे, ब्रिटेन में AY.4.2 बढ़ा रहा टेंशन, मार्च के बाद एक दिन में सबसे ज्यादा मौतें

Corona Virus Update: भारत में कोरोना वायरस के मामले फिलहाल घट रहे हैं लेकिन ब्रिटेन में डेल्टा का नया वैरिएंट AY.4.2 इस वक्त टेंशन बढ़ा रहा है.

कोरोना का नया वैरिएंट ब्रिटेन में टेंशन बढ़ा रहा है (सांकेतिक तस्वीर) कोरोना का नया वैरिएंट ब्रिटेन में टेंशन बढ़ा रहा है (सांकेतिक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • भारत में कोरोना के केस फिलहाल घट रहे हैं
  • ब्रिटेन में AY.4.2 वेरिएंट बढ़ा रहा टेंशन

भारत में कोरोना वायरस (Corona virus Update) के मामले फिलहाल घट रहे हैं लेकिन ब्रिटेन में डेल्टा का नया वैरिएंट AY.4.2 इस वक्त टेंशन बढ़ा रहा है. हालात इतने गंभीर हैं कि कोरोना से हो रही मौतों ने फिर लोगों के हाथ-पांव फुला दिए हैं. वहां कोरोना से मार्च के बाद सबसे ज्यादा मौतें देखने को मिली हैं.

ब्रिटेन में मंगलवार को कोरोना से 223 मौत हुईं. इससे पहले मार्च 2021 में 231 मौत हुई थीं. AY.4.2 ब्रिटेन के लोगों के लिए टेंशन इसलिए भी है क्योंकि सोमवार को वहां कोरोना के 49,156 मामले सामने आए. जुलाई के बाद के यह एक दिन का सबसे बड़ा नंबर है.

ब्रिटेन के स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि इंग्लैंड में कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप का एक नया वैरिएंट फैल रहा है और इसकी निगरानी तथा आकलन किया जा रहा है. स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी (एचएसए) ने कहा, ‘डेल्टा के नए उप-स्वरूपों की नियमित तौर पर निगरानी की जा रही है. हाल ही में सामने आया एक उप-स्वरूप एवाई.4.2 है.’ इसके अलावा डेल्टा के ई484के और ई484क्यू वैरिएंट से जुड़े कुछ नए मामले भी आ रहे हैं.

भारत में घट रहे कोरोना एक्टिव केस

भारत की बात करें तो पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 14,623 नए मामले आए हैं. वहीं 19,446 रिकवरी हुईं और 197 लोगों की कोरोना से मौत हुई. भारत में कोरोना के अबतक 3,41,08,996 मामले सामने आए हैं. वहीं एक्टिव केस 1,78,098 हैं. कोरोना की वजह से भारत में अबतक 4.52 लाख लोग जान गंवा चुके हैं. भारत के लिए राहत की बात यही है कि ऐक्टिव केस पौने दो लाख से नीचे आ गए हैं. वहीं देश में कोरोना की आर वैल्यू भी 1 से कम है.

अभी वैरिएंट ऑफ कंसर्न नहीं माना गया है AY.4.2

AY.4.2 कोरोना वैरिएंट को अभी वैरिएंट ऑफ कंसर्न (VOC) या फिर वैरिएंट ऑफ इंवेस्टिगेशन (VOI) नहीं माना गया है. इस वैरिएंट के बारे में सबसे पहले जुलाई 2021 में पता चला था. डेल्टा वैरिएंट के इस नए वैरिएंट में कुछ नए म्यूटेशन हैं जो स्पाइक प्रोटीन को प्रभावित करते हैं.

जानकार मानते हैं कि AY.4.2 संभावित रूप से थोड़ा अधिक संक्रामक है. लेकिन इसकी तुलना डेल्टा या अल्फा वैरिएंट से नहीं हो सकती, जो कि 50-60 फीसदी अधिक संक्रामक थे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें